https://www.rakeshmgs.in/search/label/Template
https://www.rakeshmgs.in

Hindi Notes

RakeshMgs

Adobe Pagemaker Introduction Hindi

सोमवार, नवंबर 20, 2017



हेलो दोस्तों आज हम पेजमेकर के User Interface  के बारे में जानेगें,  Pagemaker  से परिचय भी कराएँगे जब आप  Pagemaker खोलते हैं, तो सबसे पहले यह Screen आपके सामने आती है.


 Pagemaker



पेजमेकर खोलने पर सबसे पहले यह स्क्रीन दिखाई देती है यह पेजमेकर का User Interface है

टूलबाक्‍स (Tool Box)-
यह Pagemaker में काम करते समय प्रयोग में लाये जाने वाले औजारों (Tools) का एक Box होता है, यहॉ आपको Publication बनाने में Help करने वाले 14 प्रकार के Tools Available होते हैं, असल में Pagemaker में बनी हुई File को Publication कहा जाता है। इसको सुविधानुसार कहीं भी खिसकाया (Moved) जा सकता है। जब Pagemaker में कोर्इ नया Publication बनाया जाता है या पहले से बने Publication को खोला जाता है । तभी Tool Box में दिये हुए Icons दिखार्इ देने लगते है। यदि किसी कारण से Tool Box न दिखार्इ न देते तो Window Menu को Open करकेShow Tools पर क्लिक करके ही Tool Box के दवारा Pagemaker मेंPublication के Text तथा Graphics की Editing की जा सकती है।

स्‍टैन्‍डर्ड टूल बार (Standard Tool Bar)-
Pagemaker के Menu Bar के ठीक नीचे एक पट्रटी के रूप में Standard Tool Bar दिया गया होता है, इसमें ज्‍यादातर Use में आने वाले Top Commands जैसे, New, Open, Save,Print, find आदि को Icons के रूप में दिये गये होते हैं, जिनको आपPublication में काम करते समय सीधे Use में ला सकते हो।

रूलर गाइड (Ruler Guides) - Page की लम्‍बाई, चौडाई बताने के लिये Ruler guides का Use किया जाता हैा लेकिन जब कि जरूरत पडे इसे भी खिसकाया जा सकता हैा Ruler guides, Publication के Left और Top होती हैं।


कंट्रोल पैलेट(Control Palette)-
इसमें Font, Font Sige, Bold, italic, Underline, Line Spacing आदि Usefull आप्‍शन दिये गये होते हैं। जोPublication में काम करते समय किसी भी प्रकार की Editing करने में सहायता करता है।

पेज बार्डर (Page Border) - इससे Publication बनाते समय या कुछ टाइप करते समय पेज की स्थिति पता रहती है, यह पेज की बाहरी सीमाओं (Limitations) को दर्शाता है, अगर आपका Type किया गया मैटर PageBorder के बाहर चला जाता है, तो वह प्रिन्‍ट निकालते समय नहीं छपता है।

मार्जिन गाइड (Margin Guides) - जिस प्रकार Page Border से पेज कीLimitations को दर्शाया जाता है, उसकी प्रकार पेज के अन्‍दर अपने TypingAreas को निर्धारित करने के लिये Margin Guides का Use किया जाता है। यह पेज पर नीले रंग से एक पतली रेखा (Thin Line) के रूप में दिखाई देती है।

Click Here to Download Photoshop Short Cut Key


पेजमेकर परिचय

PageMaker 7.0 Introduction




पब्लिशिंग के क्षेञ में पेजमेकर सदैव अग्रणी रहा है, पेजमेकर को एल्‍डस कम्‍पनी ने बनाया और बाद में इसे एडोब कॉरपोरेश ने ग्रहण किया, तब से इसकी साख और बढ गयी, वैसे तो पेजमेकर के बहुत से संस्‍करण मार्केट में आये लेकिन पेजमेकर के सॉतवे संस्‍करण या वर्जन में कुछ ऐसे तत्‍व जोडे गये कि इसमें पब्लिशिंग का कार्य बहुत तेजी से होने लगा, इस सॉफ्टवेयर में हम विजिटिंग कार्ड, बायोडाटा, किताबें, मैगजीन, अखबार लैटरपैड, पैम्‍पलेट आदि डिजायन कर सकते हैं

Also Read


एडोब पेजमेकर की विशेषतायें 
Features of Adobe PageMaker 7.0


पेजमेकर से पहले के वर्जनों में कुछ ऐसी कमियॉ थी, जिसके कारण वह सफल नहीं हो सके, कम्‍प्‍यूटर की दुनियॉ एक ऐसी जगह है जहॉ हर रोज एक नया प्रयोग होता है, पेजमेकर की इन्‍हीं कमियों को दूर करते हुए एडोब कॉर्पोरेशन में अपना नया वर्जन 7.0 बाजार में प्रस्‍तुत किया, इसमें बहुत सारे बदलाव किये गये, तथा कुछ नये फीचर एड किये गये, इसमें किसी भी पेज का पब्लिकेशन को बनाने के बहुत सारे टैम्‍पलेट एड किये गये जो पेजमेकर को ओपन करते समय ही सामने आ जाते हैं, जिनका प्रयोग करके हम अपनी इच्‍छानुसार कोई भी डिजायन मिनटों में बना सकते हैं, पहली बार टूलबार को पेजमेकर में जोडा गया, इस टूलबार से आप फाइल को सेव, प्रिन्‍ट, टैक्‍स्‍ट फोरमेटिंग तथा स्‍पैलिंग चैक करने के आप्‍शन भी दिये गये, यहॉ तक कि पेजमेकर 7.0 में क्लिप आर्ट को भी जोडा गया, जैसे एम0एस0 वर्ड में क्लिप आर्ट का आप्‍शन दिया गया है, जहॉ से आप पब्लिकेशन में अपना मनपसंद क्लिप आर्ट जोड सकते हो।