https://www.rakeshmgs.in/search/label/Template
https://www.rakeshmgs.in

Hindi Notes

RakeshMgs

How to use ms PowerPoint in Hindi

बुधवार, अप्रैल 11, 2018



PowerPoint(पावरप्वाइन्ट ) पावर पॉइंट सीखे हिन्दी मे MS POWER POINT in Hindi स्लाइड,ग्राफ,आर्गनाइजेशन चार्ट,मीडिया क्लिप्स,स्पीकर नोटस,हैन्डअउटस MS POWER

POINT PowerPoint(पावरप्वाइन्ट ):- यह साफ्टवेयर भी ms office के अन्दर पाया जाता है। जिसका प्रयोग सूचना को आकर्षित ढंग से पेश किया जाता है। इसमे data animation & sounds लगा सकते है। पावरप्वाइन्ट प्रेजेन्टेशन slides, handouts, speaker notes, media clips, object chart का एक समूह होता है।

Slide (स्लाइड):- यह presentation का एक भाग होता है। इसके अन्दर text, object and graphics with animation & sound होता है। जिसका on screen presentation किया जाता हैं।


Handouts (हैन्डअउटस):- यह presentation का printout होता है। इसमें एक पेज में दो, चार, छः स्लाइडस हो सकती है। यह presentation मुख्य रूप से श्रोताओ को दिया जाता है। जिसमे स्लाइड के कन्टेन्टस कम्पनी का नाम प्रेजेन्टस, की तारीख और स्पीकर का नाम होता है। Speaker Notes (स्पीकर नोटस):- यह श्रोताओ के सामने print करने में सहायता करता है। यह श्रोताओ को दिखायी नही देता है। Media Clips (मीडिया क्लिप्स ):- इसके अन्तर्गत sound, video clips animation इत्यादि आते है। जिसके प्रयोग presentation को आकर्षक एवं प्रिय बनाने के लिये किया जाता है। Organisation Chart (आर्गनाइजेशन चार्ट ):- यह किसी organization के structure को hierarchical manner में present करने के लिये किया जाता है। Graph(ग्राफ):- numerical डाटा की प्रक्र्रति एव व्यवहार को आसानी से समझने के लिए इसका प्रयोग किया जाता हैं जैसे कि bar graph, pie chart & bar chart इत्यादि। POWER POINT खोलने के लिए POWER POINT खोलने के लिए Auto content Wizard(आटो कन्टेन्ट विजार्ड POWER POINT खोलने के लिए हम start->all program->PowerPoint पर click करते तो power point खुल जाता है। और इसकी window screen पर दिखायी देती है। जो नीचे दी गयी है।

Auto-content Wizard(आटो कन्टेन्ट विजार्ड ):- इसकी मदद से step by step यूजर को screens मिलती जाती है। जहा पर यूजर input करता जाता है। अन्ततः एक pretension तैयार हो जाता है। Slide View ,Outline View ,Slide Sorter View पावर पॉइंट सीखे हिन्दी मे स्लाइड शो Slide View ,Outline View ,Slide Sorter View , Normal View, Slide Show View views(बीवज) स्लाइड को किस view में देखना चाहते है और slides में क्या करने की आवशयकता है। आवशयकता के अनुसार slides का view बदलते है। ये निम्न है। ये सभी window के left & buttom corner में icon के रूप में दिखायी देते है। जिससे कि हम आसानी से एक वीव से दूसरे वीव पर Navigate कर सकते है। (1) Slide View (2) Outline View (3) Slide Sorter View (4) Normal View (5) Slide Show View Slide View (स्लाइड वीव):-यह स्लाइड का default view है इसमें Slide को design किया जाता है। इसमें Text, layout, graphics, drawing इत्यादि insert कर सकते है। इसकी window इस तरह दिखायी देती है। Outline View(आउटलाइन 

वीव):- इस वीव में text & title दिखायी देता है इसमें object & chart नही दिखायी पडते है न ही insert कर सकते है इसमें सभी स्लाइड के contents दिखायी देते है। इस view में Automatic Numbring & bulleting हो जाती है। यह वीव कुछ इस प्रकार दिखायी देता है। Slide Sorter View(स्लाइड सारटर वीव):- इस वीव में स्लाइडस उस क्रम में दिखायी देती है। जिस क्रम में slide presentation के समय दिखेगी इस view में recording, animation, sounds & timings इत्यादि सेट कर सकते है। इस वीव में स्लाइडस का आर्डर भी बदल सकते है। इसमें slide transition और design template भी apply कर सकते है। यह वीव कुछ इस तरह से दिखायी पडता है। Design Template(डिजाइन टेम्पलेट) पावर पॉइंट सीखे हिन्दी मे Design Template(डिजाइन टेम्पलेट),Blank Presentation(ब्लैंक प्रजेन्टेशन),Open An Existing Presentation (ओपेन एन इग्स्टिंग) Design Template(डिजाइन टेम्पलेट): इससे कुछ पहले से बने बनाये फार्मैट पडे होते जिसको user चुन सकता है। और उसी फार्मैट में अपनी स्लाइड बना सकता है। Blank Presentation(ब्लैंक प्रजेन्टेशन) इस आपशन से एक blank स्लाइड बना सकते है। जो यूजर को एक sketchप्रदान करता है। यह आपशन सबसे ज्यादा प्रयोग किया जाता है। Open An Existing Presentation (ओपेन एन इग्स्टिंग):- इससे पहले से बनी हुई स्लाइडस खोली जाती है।

आपको यह पोस्ट कैसा लगा हमें कमेंट करके जरुर बतायें.