https://www.rakeshmgs.in/search/label/Template
https://www.rakeshmgs.in

Learn in Hindi

RakeshMgs

Basics of Operating System Hindi Notes for CCC Exam

गुरुवार, अगस्त 08, 2019

ऑपरेटिंग सिस्टम (ओएस) का वर्गीकरण

ऑपरेटिंग सिस्टम विभिन्न प्रकार के होते हैं, लेकिन उन सभी को निम्नलिखित प्रकारों में वर्गीकृत किया जा सकता है -

एम्बेडेड OS

“एम्बेडेड ऑपरेटिंग सिस्टम” का उपयोग हैंडहेल्ड कंप्यूटरों और पीडीए जैसे छोटे उपकरणों के लिये किया जाता है। ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रोग्राम रीड-ओनली मेमोरी (रोम) चिप में स्टोर होते हैं और उपकरण में एम्बेडेड होते हैं। लोकप्रिय एम्बेडेड ऑपरेटिंग सिस्टम में शामिल हैं, विंडोज़ सीई और विंडोज़एक्सपी एम्बेडेड।



नेटवर्क OS

“नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम” का उपयोग उन कंप्यूटरों को नियंत्रित और संयोजित करने के लिये किया जाता है, जो आपस में जुड़े होते हैं। नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम सामान्यतः जुड़े हुए कंप्यूटरों में से किसी एक हार्ड डिस्क में स्थित होते हैं। इस कंप्यूटर को “नेटवर्क सर्वर” कहते हैं और यह अन्य कंप्यूटरों के बीच संचार का समन्वयन करता है। लोकप्रिय नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम में शामिल हैं, नेटवेयर, विंडोज़ एनटी सर्वर, विंडोज़ एक्सपी सर्वर और यूनिक्स।

स्टैंड अलोन OS

“स्टैंड अलोन ऑपरेटिंग सिस्टम” ही “डेस्कटॉप ऑपरेटिंग सिस्टम” भी कहलाते हैं, जो किसी एक डेस्कटॉप या नोटबुक कंप्यूटर को नियंत्रित करते हैं। ये ऑपरेटिंग सिस्टम कंप्यूटर की हार्ड डिस्क में स्थित होते हैं। लोकप्रिय डेस्कटॉप ऑपरेटिंग सिस्टम में शामिल हैं, विंडोज़, मैकऑस और यूनिक्स के कुछ वर्ज़न।

मल्टी-यूज़र एवं मल्टीप्रोसेसिंग OS


कोई मल्टी-यूज़र ऑपरेटिंग सिस्टम एक ही समय में दो या अधिक यूज़र को प्रोग्राम चलाने की सुविधा देता है। कुछ ऑपरेटिंग सिस्टम एक साथ सौ या हज़ार यूज़र को भी संयुक्त अधिकार देते हैं। कोई मल्टीप्रोसेसिंग ऑपरेटिंग सिस्टम किसी प्रोग्राम को एक से अधिक सीपीयू पर चलाने की सुविधा देता है। ऑपरेटिंग सिस्टम यह निश्चित करता है कि किस एप्लीकेशन को किस क्रम में चलना चाहिए और प्रत्येक एप्लीकेशन को कितना समय देना चाहिए।

मल्टीटास्किंग, मल्टीथ्रेडिंग और रियल-टाइम OS


कोई मल्टीटास्किंग  ऑपरेटिंग सिस्टम एक साथ एक से अधिक प्रोग्राम चलाने की सुविधा देता है। कोई मल्टीथ्रेडिंग ऑपरेटिंग सिस्टम एक ही प्रोग्राम के विभिन्न अंगों को एक साथ चलाने की सुविधा देता है। कोई रियल-टाइम ऑपरेटिंग सिस्टम इनपुट के प्रति तुरंत प्रतिक्रिया करता है। डॉस और यूनिन्क्स जैसे जनरल-परपस ऑपरेटिंग सिस्टम रियल-टाइम नहीं होते।

डेस्कटॉप OS

अक्सर डेस्कटॉप कंप्यूटर और नोटबुक्स किसी नेटवर्क का हिस्सा होते हैं। ऐसी स्थिति में, डेस्कटॉप ऑपरेटिंग सिस्टम स्रोतों के आदान-प्रदान और समन्वयन करने के लिये नेटवर्क के ऑपरेटिंग सिस्टम (एनओएस) के साथ कार्य करता है। यहाँ, डेस्कटॉप ऑपरेटिंग सिस्टम को “क्लाइंट ऑपरेटिंग सिस्टम” कहा गया है।

मोबाइल OS


कंप्यूटर ऑपरेटिंग सिस्टम के सामान ही एक मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम भी एक सॉफ़्टवेयर है, जिस पर अन्य प्रोग्राम चलते हैं। जब आप कोई मोबाइल उपकरण खरीदते हैं, तो उसके निर्माता ने उस विशिष्ट उपकरण के लिये कोई ऑपरेटिंग सिस्टम पहले से ही चुन लिया होगा।

फ़ीचर


ऑपरेटिंग सिस्टम आपके उपकरण में उपलब्ध क्रियाओं और फ़ीचरों के लिये उत्तरदायी होता है, जैसे, थम्बव्हील, कीबोर्ड, वैप, एप्लीकेशनों के साथ सिन्क्रोनाइज़ेशन, ई-मेल, टेक्स्ट-मेसेजिंग, आदि।

लोकप्रिय मोबाइल OS


कुछ लोकप्रिय मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम में निम्नलिखित शामिल हैं-
1.सिम्बियन ओएस
2.विंडोज़ मोबाइल
3.ऐन्ड्रॉयड
4.पाम ओएस
5.मोबाइल लाइनक्स
6.एमएक्सआई

मैक ऑस


मैक ऑस – “मैक ऑस” एपल इंक. के द्वारा अपने मैकिंटोश लाइन के कंप्यूटर सिस्टम के लिये विकसित किये गए ग्राफ़िकल यूज़र इंटरफ़ेस पर आधारित ऑपरेटिंग सिस्टम की श्रृंखला का ट्रेडमार्क नाम है। मैकिंटोश के यूज़र के अनुभव का सम्बन्ध ग्राफ़िकल यूज़र इंटरफ़ेस की लोकप्रियता से है। यह एक शक्तिशाली, उपयोग में आसान ऑपरेटिंग सिस्टम है, जो व्यावसायिक ग्राफ़िक डिज़ाइनर, डेस्कटॉप पब्लिशर्स, और अनेक होम यूज़र्स के बीच लोकप्रिय है।

मैक OS एक्स


मैकिंटोश ऑपरेटिंग सिस्टम का नवीनतम वर्ज़न “मैक ऑस एक्स” है, जिसे “टाइगर” भी कहते हैं। ये शक्तिशाली फ़ीचर, जैसे “स्पॉटलाईट” और “डैशबोर्ड विड्गेट्स” प्रदान करता है। स्पॉटलाईट एक उन्नत सर्च टूल है, जो फ़ाइलों, फ़ोल्डर, ई-मेल संदेशों, पते आदि को तेज़ी से खोज सकता है। डैशबोर्ड विड्गेट्स विशेषज्ञ प्रोग्राम हैं, जो सूचनाओं को लगातार अपडेट करके प्रदर्शित करते रहते हैं।

स्नो लेपर्ड


 “स्नो लेपर्ड” एक विस्तृत वर्ज़न है, जो ऑपरेटिंग सिस्टम की कार्य-कुशलता, दक्षता, और स्थिरता को बढ़ाने पर केंद्रित है। नवीनतम वर्ज़न “लायन” में “लॉन्च पैड” जैसे नए फ़ीचर हैं, जो मल्टी-टच मुद्राओं को सपोर्ट करते हैं। वर्तमान में इंस्टाल सभी एप्लीकेशनों को लॉन्च करने के लिये यूज़र विभिन्न स्क्रीन पर नेविगेट कर सकते हैं। “लेपर्ड” वर्ज़न में “बूट कैम्प” शामिल है, जो समुचित रूप से सुसज्जित एपल कंप्यूटरों को मैकऑस और विन्डोज़ एक्सपी दोनों का उपयोग करने की सुविधा देता है।

यूनिक्स


यूनिक्स – यूनिक्स एक सशक्त मल्टीटास्किंग ऑपरेटिंग सिस्टम है जिसको 1969 में विकसित किया गया था। मूल रूप से इनको नेटवर्क एनवायरनमेंट में मिनीकंप्यूटरों पर चलाने के लिये डिज़ाइन किया गया था। अब, इसका उपयोग सशक्त माइक्रोकंप्यूटरों और वेब-सर्वरों के द्वारा भी होता है। यूनिक्स के अनेक विभिन्न वर्ज़न हैं, यद्यपि उनमें अनेक समानताएं होती हैं। यूनिक्स की सर्वाधिक लोकप्रिय किस्में हैं, सन सोलारिस, जीएनयू/ लाइनेक्स, और मैकऑस एक्स। यूनिक्स ऑपरेटिंग सिस्टम तीन भागों से मिलकर बना है; कर्नेल, शेल और प्रोग्राम।

लाइनेक्स


लाइनेक्स – लाइनेक्स यूनिक्स का एक लोकप्रिय वर्ज़न है। आरंभ में इसकी रचना 1991 में फ़िनलैंड में हेलसिंकी विश्वविद्यालय के एक स्नातक छात्र, लीनस टोरवाल्ड्स के द्वारा शौकिया रूप में की गयी थी। उसने ऑपरेटिंग सिस्टम के कोड के निशुल्क वितरण की अनुमति दी, और दूसरों को कोड में संशोधन करने और अधिक विकसित करने के लिये प्रोत्साहित किया। लाइनक्स लैपटॉप और नोटबुक कंप्यूटरों के सिस्टम बायोस (BIOS) में इंस्टाल किया जा रहा है, जो यूज़र को कुछ ही सेकण्ड में उनके उपकरण को चालू करने की सुविधा देगा, जिससे एक कारगर लाइनक्स एनवायरनमेंट तैयार होगा। इंटरनेट पर अनेक लोकप्रिय वेब 2।0 सेवाएँ, जैसे ट्विटर, लिंक्ड इन, यूट्यूब, और गूगल ऑपरेटिंग सिस्टम के रूप में लाइनक्स पर निर्भर करती हैं।

माइक्रोसॉफ़्ट विंडोज़

विवरण

माइक्रोसॉफ़्ट विंडोज़ माइक्रोसॉफ़्ट के द्वारा निर्मित सॉफ़्टवेयर ऑपरेटिंग सिस्टम और ग्राफ़िकल यूज़र इंटरफ़ेस की एक श्रृंखला है। माइक्रोसॉफ़्ट ने ग्राफ़िकल यूज़र इंटरफ़ेस (जीयूआई) के प्रति बढ़ती रुचि के फलस्वरूप पहले 20 नवंबर, 1985 में विन्डोज़ नामक एक ऑपरेटिंग एनवायरनमेंट प्रस्तुत किया, जो एमएस-डॉस का अतिरिक्त भाग है।

वर्ज़न


माइक्रोसॉफ़्ट विंडोज़ 1984 में प्रस्तुत किये गए, मैक ऑस को पीछे छोड़कर, विश्व की पर्सनल कंप्यूटर की मार्केट पर प्रभुता स्थापित करने आया था। अक्टूबर 2009 तक, इंटरनेट के उपयोग के लिये क्लाइंट ऑपरेटिंग सिस्टम की मार्केट का लगभग 91% शेयर विंडोज़ के पास था। विंडोज़ का नवीनतम क्लाइंट वर्ज़न विंडोज़ 7 है; नवीनतम सर्वर वर्ज़न विंडोज़ सर्वर 2008 आर2 है; नवीनतम मोबाइल ओएस वर्ज़न विंडोज़ फ़ोन 7 है।

विंडोज़ 7


विंडोज़ का सबसे अधिक उपयोग किया जाने वाला वर्ज़न, अर्थात विंडोज़ एक्सपी 2001 में प्रस्तुत किया गया था, और विंडोज़ विस्टा को वर्ष 2007 में प्रस्तुत किया गया था। अगला बड़ा वर्ज़न, विंडोज़ 7, जो नवीनतम है, 2009 में प्रस्तुत किया गया था।

उपयोगी फ़ीचर


विंडोज़ के कुछ उपयोगी फ़ीचर इस प्रकार हैं- आप अपनी स्क्रीन के विभिन्न क्षेत्रों में एक साथ अनेक प्रोग्राम चलते हुए देख सकते हैं।

विंडोज़ इंटरफ़ेस


विंडोज़ इंटरफ़ेस “ग्राफ़िकल यूज़र इंटरफ़ेस” या जीयूआई पर आधारित है, जिसका तात्पर्य है कि यूज़र को विभिन्न प्रोग्राम में नेवीगेट करने और उनको ऐक्सेस करने में सहायता करने के लिये इंटरफ़ेस ग्राफ़िक्स या तस्वीरों का उपयोग करता है। किसी भी तत्व पर माउस से राईट क्लिक करने से “कॉन्टेक्स्ट” मेन्यू प्रदर्शित होता है, जिनका उपयोग करके आप आसानी से उपयोगी कमांड दे सकते हैं।

शॉर्टकट्स


किसी प्रोग्राम को खोलने के लिये उसे हार्ड डिस्क में खोजने के स्थान पर आप उनके शॉर्टकट का उपयोग कर सकते हैं।

हेल्प


हेल्प हमेशा नज़दीक होती है। अधिकांश स्थितियों में, “एफ़1” बटन को दबाने से नियंत्रणों के विस्तृत निर्देश या संक्षिप्त विवरण प्रदर्शित हो जाते हैं। हेल्प में सर्च फ़ीचर भी होता है, जो आपको किसी की-शब्द को टाइप करके अभीष्ट सूचना को खोजने की सुविधा देता है।

क्लिपबोर्ड


क्लिपबोर्ड – “क्लिपबोर्ड” वह अस्थायी स्टोरेज क्षेत्र है जहाँ आपके द्वारा एक स्थान से कॉपी या मूव की गयी वह सूचना रहती है, जिसे आप कहीं और उपयोग करना चाहते हैं। उदाहरण के लिये, आप किसी वेबसाइट के किसी अंश को कॉपी करना चाहते होंगे, और फिर उसे एक ई-मेल सन्देश में पेस्ट करना चाहते होंगे। क्लिपबोर्ड विंडोज़ के अधिकांश प्रोग्राम के साथ उपलब्ध होता है।

अनुकूलता


विंडोज़ ऑपरेटिंग सिस्टम को पीसी हार्डवेयर के सबसे विशाल संयोजन के साथ अनुकूलता के लिये तैयार किया गया है। इतने बड़े स्तर की अनुकूलता प्रदान करने के साथ, माइक्रोसॉफ़्ट ने विंडोज़ को कंप्यूटिंग के अधिकांश कार्य करने के लिये अग्रणी ऑपरेटिंग सिस्टम बनाया है।

लाभ


विंडोज़ विभिन्न लाभ प्रदान करता है, जैसे सॉफ़्टवेयर का श्रेष्ठ सपोर्ट और यूज़र के साथ अनुरूपता।

सॉफ़्टवेयर सपोर्ट


विंडोज़ किसी भी सॉफ़्टवेयर-निर्माता के लिये विशाल यूज़र बेस प्रदान करता है। अधिकांश उपलब्ध सॉफ़्टवेयर प्राथमिक रूप से विंडोज़ पर चलने के लिये तैयार किये जाते हैं।

यूज़र के साथ अनुकूलता


विंडोज़ डेस्कटॉप और इसके सरल यूज़र इंटरफ़ेस कंप्यूटिंग के पर्याय बन गए हैं। विंडोज़ अपनी पिछली सफलताओं के कारण और अपने प्रत्येक नए ऑपरेटिंग सिस्टम में परिचित स्वरूप पाय जाने के कारण हि विन्डोज़ सर्वाधिक लोकप्रिय और सर्वाधिक अंतरंग बना हुआ है।

सिस्टम की आवश्यकताएं


जब भी आप अपने कंप्यूटर के लिये कोई सॉफ़्टवेयर या हार्डवेयर खरीदते हैं, तो आपको पहले यह सुनिश्चित कर लेना चाहिए कि उनके लिये आपका कंप्यूटर सिस्टम की आवश्यकताएँ (requirement) पूरी करता है। यदि आप अपने कंप्यूटर पर विन्डोज़ 7 चलाना चाहते हैं, तो उसके लिये निम्नलिखित आवश्यकताएँ हैं-
1: 1 गीगाहर्ट्ज (GHz) या इससे तेज़ 32-बिट (x86) अथवा 64-बिट (x64) प्रोसेसर
2: 1 गीगाबाईट (GB) रैम (RAM) (32-बिट) या 2जीबी रैम (64-बिट)
3: 16 जीबी उपलब्ध हार्ड डिस्क स्पेस (32-बिट) या 20 जीबी (64-बिट)
4: डायरेक्टX 9 ग्राफ़िक्स डिवाइस का साथ डब्लूडीडीएम1.0 या उससे ऊंचा ड्राइवर
रिज़ोल्यूशन के आधार पर, विडियो प्लेबैक के लिये अतिरिक्त मेमोरी और उन्नत ग्राफ़िक्स हार्डवेयर की आवश्यकता हो सकती है
5: कुछ गेम्स और प्रोग्राम के अनुकूलतम प्रदर्शन के लिए डायरेक्टX10 या उसे अधिक अनुकूलता वाले ग्राफ़िक कार्ड की आवश्यकता पड़ सकती है
6: डीवीडी/सीडी ऑथरिंग के लिये एक अनुकूलतम ऑप्टिकल ड्राइव की और संगीत एवं आवाज़ को ऑडियो आउटपुट की आवश्यकता होती है
7: विंडोज़ टच एवं टेबलेट पीसी के लिये विशिष्ट हार्डवेयर और होमग्रुप के लिये एक नेटवर्क एवं विन्डोज़ 7 पर चलने वाले कंप्यूटरों की आवश्यकता होती है

इंस्टाल करने की प्रक्रिया


विंडोज़ 7 को इनस्टॉल करने की सामान्य चरण-दर-चरण प्रक्रिया इस प्रकार है-
विंडोज़ 7 की डीवीडी अपने कंप्यूटर के डीवीडी-रोम ड्राइव में डालें, और कंप्यूटर रीस्टार्ट करें। विंडोज़ 7 सेटअप स्वतः ही आरंभ हो जाना चाहिए। यदि सेटअप स्वतः आरंभ नहीं होता, तो सुनिश्चित करें कि कंप्यूटर डीवीडी ड्राइव से बूट होने के लिये कान्फ़िगर है।

रीजनल ऑप्शन सेलेक्शन

विंडोज़ 7 को इनस्टॉल करने के लिये आपसे रीजनल विकल्प सेलेक्ट करने के लिये कहा जाता है। उचित सेलेक्शन करें और जारी रखने के लिये नेक्स्ट पर क्लिक करें।

इनस्टॉलेशन आरंभ करें

अगले डायलॉग बॉक्स में, आपसे इनस्टॉलेशन आरंभ करने के लिये पूछा जाता है। इनस्टॉल नाव पर क्लिक करके इनस्टॉलेशन आरंभ करें। इससे एक स्क्रीन सामने आती है जो आपको बताती है कि सेटअप आरंभ हो रहा है।

एग्रीमेंट सेलेक्शन

सॉफ़्टवेयर लाइसेंस टर्म्स डायलॉग बॉक्स में, सुनिश्चित करें कि आपने एण्ड यूज़र लाइसेंसिंग एग्रीमेंट (EULA) को पढकर समझ लिया है। जब आप तैयार हों, तो ‘I Accept the License Terms’ (आई एक्सेप्ट द लाइसेंस टर्म्स) विकल्प पर क्लिक करें और जारी रखने के लिये नेक्स्ट पर क्लिक करें।

अपग्रेड  कस्टम इनस्टॉलेशन

अगली स्क्रीन आपको दो विकल्प प्रदान करती है, अपग्रेड और कस्टम (एडवांस्ड)। अपग्रेड विकल्प उनके लिये है जो विन्डोज़ के पुराने वर्ज़न वाले वर्तमान इंस्टालेशन को विन्डोज़ 7 से अपग्रेड करना चाहते हैं। यदि आप किसी खाली हार्ड डिस्क में नया इंस्टालेशन कर रहे हैं, तो आप कस्टम (एडवांस्ड) विकल्प को चुन सकते हैं।

इंस्टालेशन स्क्रीन

‘कस्टम’ बटन पर क्लिक करने से इनस्टॉल लोकेशन सेलेक्शन की स्क्रीन सामने आती है। सामान्य इंस्टालेशन करने पर आपकी हार्ड ड्राइव के सभी पार्टीशन (जैसे, सी:\, डी:\ आदि) यहाँ सूचीबद्ध होंगे। यदि आप विंडोज़ के किसी पुराने वर्ज़न पर चल रहे अपने कंप्यूटर पर एक साफ़-सुथरा इंस्टालेशन करना चाहते हैं, तो सुनिश्चित करें कि कंप्यूटर में पहले से मौजूद आपके डेटा और अन्य फ़ाइल आपने कंप्यूटर में से पहले ही निकाल ली है। और जब आप आगे बढ़ने के लिये तैयार हों तो, नेक्स्ट पर क्लिक करें।

स्टेटस अपडेट करना

इंस्टालिंग विंडोज़ डायलॉग बॉक्स सामने नज़र आता है और आपको अपडेट की प्रक्रिया की नवीनतम स्थिति बताता है।

पूरा होना

कुछ समय बाद, आपका कंप्यूटर रीस्टार्ट होता है और नया इनस्टॉल किया गया विंडोज़ 7 लोड होता है। अपने विंडोज़ 7 के इंस्टालेशन को पूरा करने के लिये स्क्रीन पर नज़र आने वाले निर्देशों का अनुसरण करें।

विंडोज़ 7 ड्राइवर्स

विंडोज़ 7 में जब कोई हार्डवेयर का उपकरण स्वतः इनस्टॉल नहीं होता, जब हार्डवेयर में किसी प्रकार की समस्या हो रही हो, या हार्डवेयर-संबंधी कोई अन्य समस्या हो तो विंडोज़ 7 में ड्राइवर्स को अपडेट करना आवश्यक हो जाता है।

ड्राइवर डाउनलोड करना

हार्डवेयर-निर्माता की वेबसाइट से नवीनतम ड्राइवर्स डाउनलोड करें। ड्राइवर अपडेट की इस प्रक्रिया के अंग के रूप में, आप किसी हार्डवेयर इंस्टालेशन डिस्क या विन्डोज़ अपडेट से भी ड्राइवर अपडेट करने का चयन कर सकते हैं, लेकिन खुद ड्राइवर अपडेट करना अधिक प्रभावशाली होता है।

डिवाइस मैनेजर

स्टार्ट बटन पर क्लिक करके, और “कंट्रोल पैनल – सिस्टम एंड सिक्योरिटी – डिवाइस मैनेजर” को सेलेक्ट करके डिवाइस मैनेजर खोलें। यदि आपसे एडमिनिस्ट्रेटर पासवर्ड या पुष्टिकरण (कन्फर्मेशन) पूछा जाये, तो उन्हें दें।

ड्राइवर्स का इंस्टालेशन

अब, उस हार्डवेयर डिवाइस को खोजें जिसके लिये आप ड्राइवर अपडेट करना चाहते हैं। धन [+] आयकॉन पर क्लिक करके हार्डवेयर के उपकरणों की श्रेणियों को देखें। जिस हार्डवेयर के लिये आप ड्राइवर अपडेट कर रहे हैं, उसे प्राप्त कर लेने के बाद, हार्डवेयर के नाम या आयकॉन पर राईट क्लिक करें और प्रॉपर्टीज़ को चुनें। इस प्रॉपर्टीज़ विंडो में, ड्राइवर टैब पर क्लिक करें। अपडेट ड्राइवर बटन पर क्लिक करें और निर्देशों का पालन करें।

विंडोज़ 7 को अनुकूलतम बनाना

कोई नया कंप्यूटर चाहे कितना भी चमकदार या तेज़ हो, समय के साथ वे धीमे होते नज़र आते हैं। कारण कुछ भी हो, विन्डोज़ की तेज़ी बढ़ाने के और आपके कंप्यूटर का प्रदर्शन बेहतर बनाने के अनेक तरीके हैं।

टिप्स (संकेत)

प्रदर्शन में सुधार के सम्बन्ध में विंडोज़7 अपने पूर्वज, विन्डोज़ विस्टा की तुलना में बेहतर स्थिति प्रदान करता है। लेकिन, यदि आप सर्वश्रेष्ठ संभव प्रदर्शन पाना चाहते हैं, तो स्रोतों की लालच देने वाले प्रोग्रामों और फ़ीचरों को हटाकर और आपको सिस्टम में कुछ सुधार अवश्य करना चाहिए।

बेहतर प्रदर्शन के लिये विंडोज़7 को अनुकूलतम बनाने में सहायक कुछ टिप्स यहाँ प्रस्तुत हैं।

कंप्यूटर के प्रदर्शन को अधिकतम बनाना

अपने कंप्यूटर के प्रदर्शन को अधिकतम बनाने के लिये, पहले अपने सिस्टम से जुड़े हुए सभी महत्वपूर्ण भागों के लिये ड्राइवर्स खोजें और उनको इनस्टॉल करें।

रेडीबूस्ट

रेडीबूस्ट आपके कंप्यूटर की तेज़ी बढ़ाने का सबसे आसान तरीका है। रेडीबूस्ट माइक्रोसॉफ़्ट विंडोज़ का डिस्क कैशे घटक है, जिसे सर्वप्रथम 2006 में माइक्रोसॉफ़्ट विंडोज़ विस्टा के साथ प्रस्तुत किया गया और फिर 2009 में विंडोज़ 7 के साथ प्रदान किया गया।

रेडीबूस्ट की कार्यविधि

रेडीबूस्ट किसी फ़्लैश मेमोरी, यूएसबी फ़्लैश ड्राइव, एसडी कार्ड, कॉम्पैक्ट फ़्लैश या किसी प्रकार के पोर्टेबल फ़्लैश मॉस स्टोरेज सिस्टम का उपयोग कैशे के रूप में करके कार्य करता है। इसकी रचना इस प्रकार से की गयी है कि जब आपके कंप्यूटर की मेमोरी बहुत कम चल रही हो, तो ये आपकी सहायता करे। मूल रूप से, यह कंप्यूटर को बिना खोले हुए और बिना अतिरिक्त रैम इनस्टॉल किये हुए कंप्यूटर में अतिरिक्त रैम जोड़ने के सामान है।

रेडीबूस्ट का उपयोग कैसे करें

रेडीबूस्ट का उपयोग करने के लिये, बस अपने कंप्यूटर में एक यूएसबी फ़्लैश ड्राइव या फ़्लैश मेमोरी कार्ड लगाएं। कंप्यूटर इस उपकरण को पहचान लेगा और ऑटोप्ले सामने नज़र आयेगा। अपने कंप्यूटर के प्रदर्शन को बढ़ाने के लिये स्पीड अप माय सिस्टम पर क्लिक करें।

ट्वीक 7

विंडोज़ 7 को प्रस्तुत करने के साथ माइक्रोसॉफ़्ट ने अपने लोकप्रिय विंडोज़ ऑपरेटिंग सिस्टम की शक्ति और जटिलता दोनों ही बढ़ा दी हैं। ट्वीक7  की ट्वीकिंग यूटिलिटी आपको विंडोज़ 7 को इस प्रकार कान्फ़िगर करने में सहायता करती है कि आप इसके प्रदर्शन में सुधार करके और सिस्टम सेटिंग्स को कस्टमाइज़ करके अपनी व्यक्तिगत आवश्यकताएँ पूरी कर सकें। विंडोज़ के अन्य पावर टूल के विपरीत, ट्वीक7 स्वतः ही वृद्धि के अनुमोदनों के लिये पूछता है, जिससे अन्य जटिल कान्फ़िगरेशन संबंधी परिवर्तनों के लिये “एक क्लिक” के आसान अपडेट की सुविधा प्राप्त होती है।

विंडोज़ 7 को बेहतर बनाना

विंडोज़ 7 के प्रदर्शन को बेहतर बनाने के कुछ अन्य तरीके हैं -
1. उन प्रोग्रामों को डिलीट करें जिन्हें आप कभी उपयोग नहीं करते।
2. स्टार्ट-अप पर चलने वाले प्रोग्रामों की संख्या को सीमित करें।
3. अपनी हार्ड डिस्क को नियमित रूप से डीफ़्रैगमेंट करें।
4. अपनी हार्ड डिस्क को साफ़ करें।
5. एक समय में कम प्रोग्राम चलायें।
6. विज़ुअल इफ़ेक्ट बंद कर दें।
7. वायरस एवं स्पाईवेयर्स की जाँच करें।
8. अपने कंप्यूटर की गति की जाँच करें।


  1. I am truly happy to glance at this weblog posts which contains plenty of valuable data, thanks for
    proviiding these information.

    जवाब देंहटाएं