https://www.rakeshmgs.in/search/label/Template
https://www.rakeshmgs.in

Hindi Notes

RakeshMgs

How To Use LibreOffice CALC Sheet Menu All option in Hindi || LibreOffice Calc Complete Hindi Notes

शुक्रवार, जून 11, 2021

Description of Sheet Menu

  1. Insert Cells Ctrl++ इस आप्शन के माध्यम से आप अपने कैल्क शीट में रो, कॉलम, तथा सेल इन्सर्ट यानि Add कर सकते है। इसपर क्लिक करने पर एक डायलॉग बॉक्स खुलेगा जिसमे आपको चार आप्शन मिलेंगे जो निचे इमेज में देख सकते है-
    1. Shift cells down इस आप्शन के माध्यम से सेलेक्ट किये गए सेल को निचे करके उसके स्थान पर खाली सेल इन्सर्ट करने के लिए प्रयोग किया जाता है।
    2. Shift cells right इस आप्शन के माध्यम से भी सेलेक्ट किये गए सेल की जगह खाली सेल इन्सर्ट किया जा सकता है, लेकिन सेल निचे के जगह दायें तरफ (Right Side) शिफ्ट हो जायेगा जैसे कि आप नाम से भी समझ सकते है।
    3. Entire row सेलेक्ट किये गए एक या एक से अधिक सेल के जगह पर रो इन्सर्ट करने के लिए प्रयोग करते है, याद रहे यदि हमारा डाटा पहले से टाइप है तो डाटा मिटेगा नहीं बल्कि दाएं तरफ शिफ्ट हो जायेगा।
    4. Entire column सेलेक्ट किये गए एक या एक से अधिक सेल के जगह कॉलम इन्सर्ट करने के लिए प्रयोग करते है, याद रहे यदि आप डाटा टाइप करके रखे है तो आपका डाटा मिटेगा नहीं बल्कि दाएं तरफ शिफ्ट हो जायेगा।
  2. Insert Rows इसके माध्यम से सेल के ऊपर या निचे रो को इन्सर्ट कर सकते है।
  3. Insert Columns इसके माध्यम से सेल के पहले या बाद में कॉलम को इन्सर्ट कर सकते है। यानी सेल के दाएं या बाएँ तरफ।
  4. Insert Page Break इसके माध्यम से हम अपने सेल को दो तरह से ब्रेक कर सकते है रो वाइज और कॉलम वाइज, इसका इस्तेमाल उस समय किया जाता है जब कोई कंटेंट हमें किसी दुसरे पेज में शिफ्ट करना हो, रो के मदद से भी ब्रेक कर सकते है और कॉलम के मदद से भी रो में करने पर जो भी कंटेंट ब्रेक होगा वो निचे यानि दुसरे पेज में चला जायेगा और यदि हम कॉलम ब्रेक करते है तो दाएं तरफ चला जायेगा ये भी हमारा कंटेंट दुसरे पेज में ही रख देगा। इसे एक बार प्रयोग करके प्रिंट प्रीव्यू देखेंगे तो कांसेप्ट क्लियर हो जायेगा।
  5. Delete Cells Ctrl+- इस आप्शन के माध्यम से हम अपने कैल्क शीट की रो, कॉलम तथा सेल को डिलीट कर सकते है जैसा की ऊपर हमने बताया है इन्सर्ट सेल्स, बिलकुल इसकी तरह ही है, वो इन्सर्ट करता है और ये डिलीट का काम करता है।
    1. Shift cells up इस आप्शन के माध्यम से सेलेक्ट किये गए किसी सेल को डिलीट करके निचे का कंटेंट ऊपर शिफ्ट कर सकते है।
    2. Shift cells left इस आप्शन के माध्यम से सेलेक्ट किये गए सेल को डिलीट करके दाएं तरफ का कंटेंट डिलीट वाले स्थान पर शिफ्ट कर सकते है।
    3. Delete entire row(s) इस आप्शन के माध्यम से हम सेलेक्ट सेल के अनुसार रो को डिलीट कर सकते है।
    4. Delete entire column(s) इस आप्शन के मध्यम से हम सेलेक्ट सेल के अनुसार कॉलम को डिलीट कर सकते है। इसे एकबार प्रैक्टिकल के तौर पर प्रयोग जरुर करे।
  6. Delete Page Break इसके अन्दर हमें 2 आप्शन मिलेंगे जिसके मदद से हम लगाये गए रो या कॉलम ब्रेक को डिलीट कर सकते है।
  7. Insert Sheet इस आप्शन के मदद से हम अपने कैल्क में शीट को इन्सर्ट कर सकते है इसपर क्लिक करने पर एक डायलॉग बॉक्स खुलेगा जो निचे इमेज कि तरह होगा-
    इसमें हम पोजीशन के मदद से ये सेट कर सकते है कि जो भी हम नेक्स्ट शीट ले रहे है करंट शीट के पहले रहेगा या बाद में, इसके बाद शीट आप्शन के मदद से शीट की संख्या तथा शीट का नाम सेट कर सकते है। और फ्रॉम फाइल के मदद से पहले से बने एक्सेल या कैल्क फाइल को नेक्स्ट शीट में इन्सर्ट कर सकते है।

  8. Insert Sheet at End: इस आप्शन के माध्यम से सबसे अंत में एक शीट इन्सर्ट कर सकते है जैसे ही इस आप्शन पर क्लिक करेंगे एक डायलॉग बॉक्स खुलेगा जिसमे आप चाहे तो अपने शीट का नाम भी दे सकते है, यदि नहीं देते है तो जो नाम डिफ़ॉल्ट इस डायलॉग बॉक्स में दिख रहा है वही नेक्स्ट शीट का नाम रहेगा।
  9. Insert Sheet from File: इस आप्शन के माध्यम से पहले से बने एक्सेल शीट या कैल्क शीट को इन्सर्ट कर सकते है, जैसा कि हमने ऊपर आप्शन नंबर 7 में बताया है वही डायलॉग बॉक्स ओपन होगा जो इन्सर्ट शीट में ओपन हुआ था ऊपर स्क्रीनशॉट में देख सकते है।
  10. Link to External Data: इस आप्शन के माध्यम से हम अपने शीट में एक्सटर्नल फाइल इन्सर्ट कर सकते है जिसमे टेबल या रेंज होना अनिवार्य है। हम यहाँ एक्सेल या कैल्क शीट भी ले सकते है और इसके अलावा HTML फाइल भी ले सकते है जिसमे टेबल बना हो।
  11. Delete Sheet: इस आप्शन के माध्यम से हम अपने एक्टिव शीट को डिलीट कर सकते है।
  12. Clear Cells (Backspace): इस आप्शन के माध्यम से सेलेक्ट किये गए सेल की डाटा को मिटाने के साथ-साथ हम उस सेल का फॉर्मेट, फार्मूला आदि भी मिटा सकते है, जैसे ही आप इस आप्शन पर क्लिक करेंगे या बैकस्पेस दबायेंगे एक डायलॉग बॉक्स खुलेगा जिसमे आप चेक करके यानि टिक लगाकर ये सेट कर सकते है कि आपको क्या मिटाना है। निचे स्क्रीनशॉट में डायलॉग बॉक्स को देखे-

  13. Cycle Cell Reference types F4: इस आप्शन का प्रयोग उस जगह किया जाता है जहाँ कोई फार्मूला या कैलकुलेशन किया जाता हो या एक सेल में कोई फार्मूला लिखने के बाद उसी फार्मूला को सभी में फिल करना हो तब करते है, यह सेल रिफरेन्स के ऊपर काम करता है, इसका प्रयोग हम ($) डॉलर का सिंबल लगाकर करते है, सेल रिफरेन्स 3 तरह के होते है-
    1. Relative Cell Reference: रिलेटिव सेल रिफरेन्स बाई डिफ़ॉल्ट सेट रहता है, इसे समझने के लिए निचे स्क्रीनशॉट देखें
      हमने स्क्रीनशॉट में D3 सेल को सेलेक्ट किया है जिसमे हम देखेंगे कि जो फार्मूला लगा है वो =B3*C3 है जब हम इसे ड्रैग करके या फिल डाउन करके सभी में फिल करते है तब सबका अलग-अलग फार्मूला बनेगा जैसे D3 में =B3*C3 ये है वैसे ही बाकि सबका अलग अलग रहेगा जैसे निचे स्क्रीनशॉट में देखें-
    2. Absolute Cell Reference: जैसा रिलेटिव सेल रिफरेन्स में हमारा फार्मूला सबमे अपने आप अलग-अलग हो जा रहा था लेकिन इसमें ऐसा नहीं है हम चाहे तो किसी रो, कॉलम, या सेल को लॉक कर सकते है यहाँ लॉक करने का मतलब यह है कि जब भी हम फिल डाउन या ड्रैग करेंगे तो लॉक किया गया रो, कॉलम, या सेल फिक्स्ड रहेगा बाकि सब में बदलाव हो सकेगा, समझने के लिए हम सेल B2 को ले लेते है-
      • $B$2 जब हम सेल में इस तरह से लगाकर कैलकुलेशन करेंगे तब हमारा रो और कॉलम में कोई भी बदलाव नहीं होगा जैसे रिलेटिव में हमने सिर्फ B2 को C2 से गुणा यानि Multiply कर दिया था उसके बाद फिल डाउन करके बाकि सब में हमने फार्मूला को कॉपी कर दिया था, लेकिन सब सेल का अलग-अलग एड्रेस या फार्मूला हो गया था। लेकिन यदि हम ऐसे करके फिल डाउन करते है तो हमारा जितना भी कैलकुलेशन होगा वो सारे के सारे B2 से ही होगा यानि हमारा सेल फिक्स्ड हो गया है।
      • B$2 इसमें सिर्फ हमारा रो फिक्स्ड है यानि जब हम डाटा को कॉलम वाइज कैलकुलेट करेंगे तब सेल B2 से C2, C3, C4, C5 आदि में बदल जायेगा लेकिन जब हम रो वाइज करेंगे तब फिक्स्ड रहेगा
      • $B2 इसमें सिर्फ हमारा कॉलम लॉक होगा यानि जब हम डाटा को रो वाइज कैलकुलेट करेंगे तब हमारा सेल B2 से B3, B4, B5 आदि में होते चला जायेगा लेकिन Column वही रहेगा सिर्फ रो की संख्या अलग हो जायेगा
    1. Mixed Cell reference: मिक्स्ड सेल रिफरेन्स का मतलब तो आप समझ गए होंगे जिसमे दोनों का इस्तेमाल किया जाता हो यानि हम चाहे तो A1+B5 की जगह A$1+$B$5 लिख सकते है इसमें हमारा मिक्स्ड का इस्तेमाल हो रहा है क्योंकि पहले रेंज में हमने सिर्फ रो को लॉक किया है लेकिन दुसरे में हमने सेल को ही लॉक किया हुआ है। यदि आपको अभी भी थ्योरीटिकल समझ नहीं आया तो निचे विडियो को देखें।
  14. Fill Cells: इस आप्शन के माध्यम से हम अपने फार्मूला, नंबर, या कोई भी डाटा को अलग-अलग सेल में इन्सर्ट करने के लिए इस्तेमाल करते है, यदि कोई फार्मूला होगा तो वो फार्मूला कॉपी हो जायेगा चाहे जिस भी सेल रिफरेन्स में हो जैसा कि आपने ऊपर पढ़ा, इसमें आपको 7 आप्शन मिलेंगे-
    1. Fill Down अगर कोई फार्मूला हमें निचे की ओर कॉपी करना हो तब इसका इस्तेमाल करते है, जैसे यदि आप D3 सेल पर है जो की बिलकुल खली है और D2 में फार्मूला लिखा है तो उस जगह पर इसका इस्तेमाल करेंगे तो ऊपर जो भी फार्मूला होगा निचे भी वही कॉपी हो जायेगा और कैलकुलेट कर देगा।
    2. Fill Right यदि हम कोई फार्मूला या किसी भी सेल की डाटा को दाएं तरफ कॉपी करना चाहते है तो इसका इस्तेमाल करते है।
    3. Fill Up इसी प्रकार यदि कोई डाटा या फार्मूला निचे सेल में लिखा हो तो उसे हम ऊपर फिल कर सकते है।
    4. Fill Left इसी प्रकार यदि कोई डाटा या फार्मूला दाएं तरफ लिखा हो तो हम उसे बाएँ यानि लेफ्ट साइड में कॉपी कर सकते है।
    5. Fill Sheets इसके माध्यम से हम अपने किसी भी शीट की डाटा को किसी दुसरे शीट में कॉपी करने के लिए इस्तेमाल करते है, जैसे यदि आप अभी शीट नंबर 1 पर है और आपको इस शीट की सभी डाटा को शीट नंबर 5 में कॉपी करना है तो सबसे पहले आप कण्ट्रोल बटन दबाकर शीट नंबर 1 और 5 को सेलेक्ट करें उसके बाद शीट 1 का जो डाटा कॉपी करना है उसे सेलेक्ट करें जैसे यदि हमारा डाटा A1 से D6 तक है तो हम सेलेक्ट कर लेंगे उसके बाद फिल शीट्स आप्शन पर क्लिक करेंगे तब हमारा डाटा शीट नंबर 5 में कॉपी हो जायेगा।
    6. Fill Series इसके माध्यम से हम सीरीज बना सकते है, जैसे हम A1 से A10 तक का सिलेक्शन बना लेते है, उसके बाद इस आप्शन पर क्लिक करेंगे तो एक डायलॉग बॉक्स ओपन होगा जो निचे इमेज में देख सकते है-
    7. ऊपर इमेज के अनुसार आप डाटा को मैनेज कर सकते है, अपने अनुसार डायरेक्शन, सीरीज टाइप और टाइम यूनिट सेट कर सकते है, यहाँ कुछ आप्शन एक्टिव है कुछ एक्टिव नहीं है जैसे राईट लेफ्ट और टाइम यूनिट, लेफ्ट राईट उस समय एक्टिव होगा जब हम सीरीज Left से Right में बनाना हो यानि अगर हम सिलेक्शन A1 से J1 तक का बनाकर इस आप्शन पर क्लिक करेंगे ये आप्शन एक्टिव हो जायेगा, टाइम यूनिट उस समय शो होगा जब हम सीरीज टाइप्स में से डेट आप्शन पर टिक लगायेंगे तब टाइम यूनिट के सारे आप्शन एक्टिव हो जायेंगे। इसे विडियो के मदद से समझते है-

      आगे का आप्शन टाइप किया जा रहा है....

    8. Fill Random Number
  15. Named Ranges and Expressions
  16. Cell Comments
    1. Edit Comment
    2. Hide Comment
    3. Show Comment
    4. Delete Comment
    5. Delete All Comment
  17. Rename Sheet
  18. Hide Sheet
  19. Show Sheet
  20. Move or Copy Sheet
  21. Navigate
    1. To Previous Sheet
    2. To Next Sheet
  22. Sheet Tab Color
  23. Sheet Events
  24. Right-To-Left