https://www.rakeshmgs.in/search/label/Template
https://www.rakeshmgs.in

Learn in Hindi

RakeshMgs

Internet Technology and Web Designing in Hindi | O Level in Hindi Part 2

गुरुवार, अक्तूबर 14, 2021

    पैकेट स्विचिंग टेक्नॉलोजी

    • पैकेट स्विचिंग एक डिजिटल नेटवर्किंग कम्यूनिकेशन विधि है जो सामग्री, प्रकार या संरचना के विपरीत सभी ट्रांसमिट डेटा को उपयुक्त आकार के ब्लॉक में समूहित होते हैं, जिन्हें पैकेट कहा जाता है।
    • पैकेट स्विचिंग संदेशों को भेजे जाने से पहले संदेशों को पैकेट में विभाजित करता है, प्रत्येक पैकेट को अलग-अलग ट्रांसमिट करता है, तथा इसके बाद अभिप्रेत गंतव्य सभी संदेशों के आने पर उन्हें मूल संदेश में रीसेम्बल करता है।
    • नेटवर्किंग टेक्नॉलोजी को अलग करने का एक मूल तरीका उस विधि पर आधारित है, जिसका प्रयोग डिवाइसों के बीच के पाथ का निर्धारण करने के लिए किया जाता है, जिससे जानकारी प्रवाहित होगी।
    • बहुत ही सरलीकृत शब्दों में, दृष्टिकोण दो प्रकार के होते हैं
      • पाथ को अग्रिम रूप में डिवाइसों के बीच स्थापित किया जा सकता है या डेटा को किसी वेरिएबल पाथ पर पृथक डेटा एलीमेंट के रूप में भेजा जा सकता है।.
    • इस प्रकार के नेटवर्क में, डेटा स्थानांतरण के लिए किसी भी विशिष्ट पाथ का इस्तेमाल नहीं किया जाता है।.
    • इसके बदले, डाटा को पैकेट नामक छोटे टुकड़ों में तोड़ दिया जाता है और नेटवर्क पर भेज दिया जाता है।
    • पैकेट को उनके उनके गंतव्य के लिए प्राप्त करने की आवश्यकता के रूप में पैकेट को मार्गयुक्त, संयुक्त या खंडित किया जा सकता है।
    • प्राप्ति के समय, यह प्रक्रिया विपरीत हो जाती है, डेटा को पैकेट से पढ़ा जाता है तथा मूल डेटा के निर्माण में री-असेंबल किया जाता है।
    • पैकेट-स्विच्ड नेटवर्क टेलीफोन सिस्टम की तुलना में पोस्टल सिस्टम के अधिक अनुरूप होता है (हालांकि तुलना पूर्ण नहीं है)।
    • मूल संदेश हरा, नीला, लाल होता है।
    चित्र 2.1: पैकेट स्विचिंग
    • पैकेट स्विच्ड नेटवर्क में, डिवाइसों के बीच डेटा भेजने के पहले किसी भी सर्किट को स्थापित नहीं किया जाता है।
    • डेटा का अवरोध, एक ही फ़ाइल या कम्यूनिकेशन से भी, यह किसी भी संख्या का पाथ ले सकता है क्योंकि यह एक डिवाइस से दूसरे डिवाइस तक ट्रेवल करता है।

    इंटरनेट प्रोटोकॉल (Protocol) का परिचय

    • इंटरनल प्रोटोकॉल (Internet Protocol) इंटरनेट या किसी अन्य नेटवर्क पर भेजे गए डेटा का प्रारूप के संचालित होने वाले नियमों का एक सेट होता है।
    • इंटरनेट प्रोटोकॉल (Internet Protocol) में कम्यूनिकेशन प्रोटोकॉल का एक सूइट होता है जिसे दो सर्वश्रेष्ठ नामों से जाना जाता है
      • ट्रांसमिशन कंट्रोल प्रोटोकॉल (TCP - Transmission Control Protocol)
      • इंटरनेट प्रोटोकॉल (IP - Internet Protocol)
    • इंटरनेट प्रोटोकॉल सूइट में केवल निचले स्तर का प्रोटोकॉल (जैसे कि TCP और IP) ही शामिल नहीं होता है, बल्कि यह सामान्य अनुप्रयोगों को भी निर्दिष्ट करता है जैसेकि इलेक्ट्रॉनिक मेल, टर्मिनल एमुलेशन और फ़ाइल ट्रांसफर।
    • इंटरनेट प्रोटोकॉल को सबसे पहले 1970 के मध्य में विकसित किया गया था, जब डीफेंस एडवांस्ड रिसर्च प्रोजेक्ट एजेंसी (DARPA) ने पैकेट स्विच्ड नेटवर्क की स्थापना में रूची दिखाई थी तथा जिसमें अनुसंधान संस्थान में भिन्न कंप्यूटर सिस्टम के बीच संचार उपलब्ध कराया गया था।
    • हीटरोजीनिय कनेक्टिविटी (heterogeneous connectivity) को के लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए, DARPA ने स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी और बोल्ट (Bolt), बेरानेक (Beranek) तथा न्यूमैन (Newman) (BBN)। विकास के इस प्रयास का परिणाम इंटरनेट प्रोटोकॉल सूइट (Internet protocol suite) था, जो 1970 के अंत में पूर्ण हुआ था।
    • बाद में, TCP/IP को बरकेले सॉफ्टवेयर डिस्ट्रिब्यूशन (Berkeley Software Distribution - BSD) UNIX के साथ सम्मिलित किया गया तथा इस प्रकार यह एक आधार बन गया जिस पर इंटरनेट और वर्ल्ड वाइड वेब (WWW) आधारित हैं।
    • इंटरनेट प्रोटोकॉल (नया या संशोधित प्रोटोकॉल) की दस्तावेजीकरण और नीतियाँ तकनीकी रिपोर्ट में निर्दिष्ट हैं जिसे टिप्पणियों के लिए अनुरोध (RFC) कहा जाता है, जो प्रकाशित हैं तथा इंटरनेट कम्यूनिटी द्वारा इनकी समीक्षा और विश्लेषण किया गया था।
    • प्रोटोकॉल रिफाइनमेंट नए RFC में प्रकाशित किए जाते हैं। इंटरनेट प्रोटोकॉल के कार्य क्षेत्र की व्याख्या करने के लिए, निम्नलिखित FIG इंटरनेट प्रोटोकॉल सूइट और उनके संगत OSI परतों के कई प्रोटोकॉल को चित्रित करते हैं।
    चित्र 2.2: इंटरनेट प्रोटोकॉल OSI मॉडल के परतों की पूर्ण श्रेणी की माप करते हैं

    ट्रांसमिशन कंट्रोल प्रोटोकॉल (TCP - Transmission Control Protocol)

    • प्रोटोकॉल का दूसरा ट्रांसपोर्ट परत TCP है।
    • TCP (ट्रांसमिशन कंट्रोल प्रोटोकॉल) एक ऐसा प्रोटोकॉल है जो कंप्यूटर और इंटरनेट के बीच डेटा के पैकेट भेजने के लिए इंटरनेट प्रोटोकॉल (IP) के साथ कार्य करता है।
    • TCP दो अंतबिंदुओं के बीच पूर्ण डुप्लेक्स आभासी कनेक्शन स्थापित करता है। प्रत्येक अंतबिंदु को IP एड्रेस और TCP पोर्ट नंबर द्वारा परिभाषित किया जाता है। TCP के संचालन को परिमित स्टेट मशीन के रूप में कार्यान्वित किया जाता है।
    • TCP/IP प्रोटोकॉल को चार परतों में मॉल्ड किया जाता है।

    TCP ऑपरेशन

    • TCP का प्राथमिक उद्देश्य प्रक्रियाओं के युग्मों के बीच विश्वसनीय सुरक्षायोग्य लॉजिकल सर्किट या कनेक्शन सर्विस प्रदान करना है।
    • यह सर्विस प्रदान करने के लिए, इंटरनेट कम्यूनिकेशन सिस्टम को निम्नलिखित क्षेत्रों में सुविधाएँ उपलब्ध कराने की आवश्यकता है।
      • मूल डेटा स्थानांतरण
      • विश्वसनीयता (Reliability)
      • प्रवाह नियंत्रण (Flow control)
      • मल्टीप्लेक्सिंग (Multiplexing)
      • कनेक्शन (Connections)
    • मूल डेटा स्थानांतरण (Basic data transfer)
      • TCP एक साथ डेटा स्ट्रीम भेजने और प्राप्त करने दोनों ही में सक्षम है, भले ही यह कई अंडरलाइंट नेटवर्क टेक्नॉलोजी में डेटा ट्रांसमिशन के मूल सिद्धांत के विपरीत हो।
      • TCP इंटरनेट सिस्टम के जरिए ट्रांसमिशन के लिए सीगमेंट में डेटा की कुछ संख्या की पैकेजिंग करके इसके उपयोगकर्ताओं के बीत प्रत्येक दिशा में डेटा के सतत स्ट्रीम को स्थानांतरित करने में सक्षम होता है।
      • सामान्यतः, TCP यह निर्णय लेता है कि उनके स्वयं के सुविधानुसार डेटा को कब ब्लॉक करना है और कब फॉरवार्ड करना है।
      • TCP परत से ट्रांसमिट किए गए डेटा यूनिट को सीगमेंट के रूप में संदर्भित किया जाता है। सीगमेंट का आकार और समय जिस पर उन्हें भेजा जाना है, सामान्यतः TCP मॉड्यूल के लिए छोड़े जाते हैं।
      • TCP एप्लिकेशन अनुरोध करता है कि डेटा को अधिकतम ट्रांसमिशन यूनिट (MTU) के बिना उस पॉइंट के लिए सभी डेटा को वितरित करने हेतु TCP मॉड्यूल को निर्देश देकर पुश किया जाता है।
    • विश्वसनीयता (Reliability)
      • TCP ट्रांसमिट किए गए प्रत्येक बाइट के लिए एक अनुक्रम संख्या निर्दिष्ट करता है तथा प्राप्त करने वाली TCP से सकारात्मक की उम्मीद करता है।
      • यदि समय समाप्त अंतराल के भीतर ACK प्राप्त नहीं होता है, तो डेटा पुनः ट्रांसमिट होता है।
      • प्राप्त करने वाली TCP जब क्रम से बाहर आ जाता है और प्रतिलिपि सेग्मेंट्स को समाप्त करता है, तब इसका प्रयोग सेग्मेंट्स को पुनः व्यवस्थित करने के लिए अनुक्रम संख्याओं का प्रयोग करता है।
      चित्र 2.3: TCP डेटा स्थानांतरण
    • TCP सकारात्मक अभिस्वीकृति सिस्टम के माध्यम से विश्वसनीय कम्यूनिकेशन प्रदान करता है।
    • प्रवाह नियंत्रण (Flow Control)
      • TCP प्रेषक द्वारा भेजे गए डेटा की मात्रा का संचालन करने हेतु रिसीवर के लिए साधन प्रदान करता है।
      • इसे प्रत्येक ACK के साथ "window” को वापस करके प्राप्त किया जाता है, जो सफलतापूर्वक प्राप्त अंतिम सीगमेंट के बाहर की संख्याओं के स्वीकार्य अनुक्रम की श्रेणी को दर्शाता है।
      • यह विंडो ऑक्टेट्स की अनुमत संख्या को दर्शाता है जिसे प्रेषक आगे की अनुमति प्राप्त करने से पहले प्राप्त कर सकता है।
    • मल्टीप्लेक्सिंग (Multiplexing)
      • TCP एक सिंगल होस्ट के भीतर एक साथ कई प्रक्रियाओं के लिए कनेक्शन उन्मुख परिवेश प्रदान करने में सक्षम है।
      • TCP पोर्ट के एक सेट का प्रयोग करता है, जिसे होस्ट के IP एड्रेस के साथ श्रेणीबद्ध सॉकेट प्रदान करता है, जो विशिष्ट रूप से इंटरनेट के भीतर कहीं भी एप्लिकेशन प्रक्रिया की पहचान करता है।
    • कनेक्शन (Connections)
      • उपरोक्त विश्वसनीयता और प्रवाह नियंत्रण प्रक्रियाएँ इस बात के लिए आवश्यक है कि TCP प्रत्येक डेटा स्ट्रीम के लिए कुछ स्थित जानकारी को इनिशियलाइज और मेंटेन करता है।
      • सॉकेट अनुक्रम संख्या और विंडो साइज सहित इस जानकारी के संयोजन को कनेक्शन कहा जाता है।
      • प्रत्येक कनेक्शन को इसके दोनों तरफ की पहचान करने वाले सॉकेट के युग्मों द्वारा विशिष्ट रूप से निर्दिष्ट किया जाता है।
      • जब दो प्रक्रियाओं को कम्यूनिकेट किया जाता है, तो उनके TCP को पहले कनेक्शन स्थापित करना चाहिए (दोनों ओर स्थिति जानकारी इनिशियलाइज करें)।
      • जब कम्यूनिकेशन पूर्ण हो जाता है, तो अन्य उपयोगकर्ताओं के लिए संसाधनों को मुक्त करने हेतु समाप्त या बंद हो जाता है।

    TCP हेडर (Header)

    • TCP सीगमेंट में हेडर और वेरिएबल लेंथ डेटा क्षेत्र होता है जो अंत में एप्लिकेशन डेटा ले जाता है।
    • TCP हेडर कम से कम 20 बाइट और अधिकतम 60 बाइट लंबा होता है।
    • स्रोत पोर्ट (16-bits (बिट्स)): डिवाइस भेजते समय एप्लिकेशन प्रक्रिया के सोर्स पोर्ट की पहचान करता है।
    • गंतव्य पोर्ट (16-bits (बिट्स)): डिवाइस प्राप्त करते समय एप्लिकेशन प्रक्रिया के गंतव्य पोर्ट की पहचान करता है।
    • अनुक्रम संख्या (32-bits (बिट्स)): एक सत्र में सीगमेंट के डेटा बाइट्स की अनुक्रम संख्या।
    • अभिस्वीकृति संख्या (32-bits (बिट्स)): जब ACK फ्लैग सेट हो, तो इस संख्या में डेटा बाइट की अगली अनुक्रम संख्या होती है, जो प्राप्त किए गए पिछले डेटा की अभिस्वीकृति के रूप में कार्य करता है।
    • डेटा ऑफसेट (4-bits (बिट्स)): इस फील्ड के दो अर्थ होते हैं। पहला, यह TCP हेडर (32-बिट शब्द) के आकार के बारे में बताता है। दूसरा, यह संपूर्ण TCP सीगमेंट के वर्तमान पैकेट में डेटा के ऑफसेट को दर्शाता है।
    • आरक्षित (3-bits (बिट्स)): भविष्य में उपयोग के लिए आरक्षित तथा सभी डिफॉल्ट रूप से शून्य पर सेट हैं।
    • फ्लैग्स (1-बिट प्रत्येक):
      • NS: नोंस सम बिट का प्रयोग एक्सप्लिसिट कंगेश्चन नोटिफिकेशन सिग्नलिंग प्रक्रिया द्वारा किया जाता है।
      • CWR: जब कोई होस्ट ECE बिट सेट के साथ पैकेट प्राप्त करता है, तो इस बात की अभिस्वीकृति के लिए कंजेश्चन विंडोज रीड्यूस्ड सेट किया जाता है कि ECE प्राप्त हो गया था।
      • ECE: इसके दो अर्थ होते हैं:
        • यदि SYN, 0 पर क्लीयर होता है, तो ECE का अर्थ यह है कि IP पैकेट में इसका अपना CE (कंजेश्चन एक्सपीरियंस) बिट सेट होता है।
        • यदि SYN बिट 1 पर सेट होता है, ECE का अर्थ होता है कि डिवाइस ECT समर्थ है।
      • URG: यह दर्शाता है कि अर्जेंट पॉइंटर फील्ड मे महत्वपूर्ण डेटा होता है तथा इन्हें प्रक्रियाबद्ध किया जाना चाहिए।
      • ACK: यह दर्शाता है कि अभिस्वीकृति फील्ड का महत्व होता है। यदि ACK को 0 पर क्लीयर किया जाता है, यदि दर्शाता है कि पैकेट में कोई अभिस्वीकृति नहीं है।
      • PSH: सेट करते समय, इसकी बफरिंग के बिना एप्लिकेशन प्राप्त करने के लिए पुश डेटा (जैसे ही यह आता है) प्राप्त करने का एक अनुरोध है।
      • RST: रीसेट फ्लैग की कई विशेषताएँ हैं:
        • इसका प्रयोग इनकमिंग कनेक्शन को इनकार करने के लिए किया जाता है।
        • इसका प्रयोग सीगमेंट को नामंजूर करने के लिए किया जाता है।
        • इसका प्रयोग कनेक्शन को रीस्टार्ट करने के लिए किया जाता है।
      • SYN: इस फ्लैग का प्रयोग होस्ट के बीच कनेक्शन स्थापित करने के लिए किया जाता है।
      • FIN: इस फ्लैग का प्रयोग कनेक्शन रिलीज करने के लिए किया जाता है तथा इसके बाद कोई अन्य डेटा एक्सचेंज नहीं किए जाते हैं। क्योंकि SYN और FIN फ्लैग वाले पैकेट में अनुक्रम संख्याएँ होती हैं, उन्हें सही क्रम में प्रक्रियाबद्ध किया जाता है।

    TCP क्लाइंट/सर्वर मॉडल

    • TCP एक पीयर-टू-पीयर, कनेक्शन-ओरिएंटेड प्रोटोकॉल है।
    • कोई मास्टर/सबऑर्डिनेट रिलेशनशिप नहीं हैं। हालांकि, एप्लिकेशन विशेष रूप कम्यूनिकेशन के लिए क्लाइंट/सर्वर मॉडल का प्रयोग करते हैं।
    • सर्वर एक एप्लिकेशन जो इंटरनेट उपयोगकर्ताओं को सेवा प्रदान करता है। क्लाइंट सेवा का अनुरोधकर्ता होता है।
    • एप्लिकेशन में सर्वर और क्लाइंट दोनों ही भाग होते हैं, जो एक ही या विभिन्न सिस्टम पर संचालित हो सकता है।
    • उपयोगकर्ता एप्लिकेशन के क्लाइंट भाग का आह्वान करते हैं, जो एक विशेष सेवा के लिए अनुरोध करता है और इसे ट्रांसपोर्ट माध्यम के रूप में टीसीपी / आईपी का उपयोग कर एप्लिकेशन के सर्वर के भाग को भेजता है।
    • सर्वर एक ऐसा प्रोग्राम हो, जो अनुरोध प्राप्त करता है, आवश्यक सेवा निष्पादित करता है तथा जवाब में परिणामों को वापस भेजता है।

    इंटरनेट प्रोटोकॉल (IP)

    • इंटरनेट प्रोटोकॉल (IP) प्राथमिक नेटवर्क प्रोटोकॉल है जिसके द्वारा डेटा को इंटरनेट के जरिए एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर पर भेजा जाता है।
    • इंटरनेट पर प्रत्येक कंप्यूटर (होस्ट के रूप में जाना जाता है) में कम से कम एक IP एड्रेस होता है जो विशिष्ट रूप से इसकी पहचान इंटरनेट पर मौजूद सभी कंप्यूटरों से करता है।
    • इंटरनेट प्रोटोकॉल के फंक्शन में शामिल हैं,
      • इंटरनेट एड्रेसिंग स्कीम को परिभाषित करना।.
      • नेटवर्क एक्सेस लेयर और होस्ट-होस्ट ट्रांसपोर्ट लेयर के बीच डेटा ले जाना।
      • डेटाग्राम के फ्रैगमेंटेशन और रीअसेंबली को निष्पादित करना।
      • रिमोट होस्ट के लिए डेटाग्राम रूट करना।
    • वर्तमान में इंटरनेट प्रोटोकॉल में दो संस्करण होते हैं - IPV4 और IPV6।

    इंटरनेट प्रोटोकॉल संस्करण 4 का ओवरव्यू

    • इंटरनेट प्रोटोकॉल संस्करण 4 (IPv4) IP का चौथा संशोधन है तथा इसका प्रयोग व्यापक रूप से विभिन्न प्रकार के नेटवर्क पर डेटा कम्यूनिकेशन के लिए होता है।
    • IPv4 पैकेट-स्विच्ड लेयर नेटवर्क में प्रयुक्त होने वाला कनेक्शनलेस प्रोटोकॉल होता है, जैसे कि ईथरनेट। यह प्रत्येक डिवाइस के लिए पहचान प्रदान करके नेटवर्क डिवाइस के बीच लॉजिकल कनेक्शन प्रदान करता है।
    • इंटरनेट प्रोटोकॉल संस्करण 4 मानक जो लंबाई में चार बाइट्स के IP एड्रेस को दर्शाता है। IPv4 चार 1 बाइट दशमलव संख्याओं का प्रयोग करता है, जिसे एक डॉट द्वारा अलग किया जाता है (अर्थात, 192.168.1.1)।
    • सभी प्रकार की डिवाइसों के साथ IPv4 को कॉन्फिगर करने के कई तरीके हैं - जिसमें नेटवर्क के प्रकार के आधार पर मैनुअल और ऑटोमेटिक कॉन्फिगरेशन सम्मिलित हैं। /p>
    • इंटरनेट प्रोटोकॉल संस्करण 6 (IPv6) अधिक उन्नत है और इसमें IPv4 की तुलना में बेहतर विशेषताएँ होती हैं। इसमें एड्रेस की असीमित संख्या प्रदान करने की सामर्थ्यता होती है।
    • IPV6 विश्वव्यापी नेटवर्क की बढ़ती हुई संख्या को समायोजित करने और IP एड्रेस की समस्याओं का समाधान करने में सहायता के लिए IPv4 को प्रतिस्थापित कर रहा है। .
    • नया इंटरनेट प्रोटोकॉल संस्करण 6 (IPv6) मानक जो लंबाई में 16 बाइट्स (128 bits (बिट्स)) के IP एड्रेस को दर्शाता है। IPv6 हेक्साडेसीमल संख्याओं का प्रयोग करता है जिसे कॉलन द्वारा अलग किया जाता है (अर्थात fe80::d4a8:6435:d2d8:d9f3b11)।
    चित्र 2.4: IPv4 एड्रेस

    रूटर

    • रूटिंग किसी स्रोत से गंतव्य तक के लिए सभी इंटरनेटवर्क के पार जानकारी को स्थानांतरित करने का कार्य करता है।
    • साथ ही, विशेष रूप से कम से कम एक इंटरमीडिएट नोड का सामना किया जाता है।
    • रूटिंग प्रायः ब्रिजिंग के समान होता है, जो कैजुअल ऑब्जर्वर के लिए एक ही चीज को ठीक से पूरा करते हुए प्रतीत हो सकता है।
    • इन दोनों के बीच प्राथमिक अंतर यह है कि ब्रिजिंग OSI-रीफरेंस मॉडल के लेयर 2 (लिंक लेयर) पर होता है जबकि रूटिंग लेयर 3 (नेटवर्क लेयर) पर होता है। यह अंतर स्रोत से गंतव्य तक जानकारी को ले जाने की प्रक्रिया में उपयोग के लिए विभिन्न जानकारी के साथ रूटिंग और ब्रिजिंग प्रदान करता है, इसलिए ये दो फंक्शन विभिन्न तरीकों में उनके कार्यों को पूरा करते हैं।
    • रूटिंग में दो मूल गतिविधियाँ शामिल होती हैं
      • ऑप्टिमल रूटिंग पाथ का निर्धारण करना
      • इनटर्न नेटवर्क के माध्यम से जानकारी समूह (विशेष रूप से पैकेट कहा जाता है)।
    • रूटिंग प्रक्रिया के संदर्भ में , इनके उत्तरार्ध को पैकेट स्विचिंग के रूप में संदर्भित किया जाता है। .
    • यद्यपि पैकेट स्विचिंग अपेक्षाकृत सरल होता है, पाथ का निर्धारण बहुत ही जटिल हो सकता है।
    • एल्गोरिद्म को स्विच करना अपेक्षाकृत आसान होता है, यह सर्वाधिक रूटिंग प्रोटोकॉल के लिए समान होता है।
    • अधिकांश स्थितियों में, एक होस्ट यह निर्धारित करता है कि इसे एक पैकेट किसी दूसरे होस्ट को भेजना चाहिए।
    • कुछ साधनों द्वारा रूटर का एड्रेस प्राप्त करके, स्रोत होस्ट रूटर के भौतिक (मीडिया एक्सेस कंट्रोल (MAC)-लेयर) एड्रेस के लिए विशिष्ट रूप से एड्रेस किए पैकेट को भेजता है, इस बार प्रोटोकॉल (नेटवर्क लेयर) के साथ गंतव्य होस्ट का एड्रेस होता है।
    • जैसे ही यह पैकेट के गंतव्य प्रोटोकॉल एड्रेस की जांच हो जाती है, तो रूटर यह निर्धारित करता है कि यह या तो अगले हॉप के लिए पैकेट का फॉरवार्ड करना जानता है या नहीं।
    • यदि रूटर को पता नहीं है कि पैकेट को किस तरह फॉरवार्ड करना है, तो यह विशिष्ट रूप से पैकेट को छोड़ देता है।
    • हालांकि, यदि रूटर यह जानता है कि पैकेट को किस तरह फॉरवार्ड करता है, तो यह अगले हॉप के भौतिक एड्रेस के गंतव्य को बदल देता है तथा पैकेट को ट्रांसमिट करता है।
    चित्र 2.5: रूटिंग की प्रक्रिया
    • ऊपर दिया गया उदाहरण उनके बीच के तीन रूटर के प्रयोग से एक दूसरे के साथ दो होस्ट को कम्यूनिकेट करते हुए दिखाता है।
    • यदि ये तीन रूटर इंटरनेट के भाग हैं, तो जब दोनों होस्ट को मान्य सार्वजनिक IP-एड्रेस निर्दिष्ट किया जाता है, तो वे इस अनुसार कार्य करेंगे।
    • नेटवर्क एड्रेस ट्रांसलेशन(Network Address Translation(NAT))
      • NAT को RFC में 1631 में परिभाषित किया गया था, यह ऐसे होस्ट को अनुमति देता है जिसके पास इंटरनेट के जरिए अन्य होस्ट के साथ कम्यूनिकेट करने के लिए मान्य पंजीकृत IP एड्रेस नहीं है।
      • होस्ट शायद प्राइवेट एड्रेस या दूसरे संगठन के असाइन किए गए एड्रेस का प्रयोग कर सकते हैं।
      • दोनों स्थिति में, NAT इन एड्रेस को अनुमति देते हैं जो उपयोग को जारी रखने के लिए इंटरनेट द्वारा तैयार नहीं होते हैं तथा फिर भी होस्ट के साथ संपूर्ण इंटरनेट कम्यूनिकेशन की अनुमति देते हैं।
      • NAT शेष इंटरनेट के लिए प्राइवेट एड्रेस को दर्शाने हेतु एक मान्य पंजीकृत IP एड्रेस के प्रयोग से अपने लक्ष्य को प्राप्त करता है। .
      • NAT प्रत्येक IP पैकेट के भीतर फंक्शन प्राइवेट IP एड्रेस को सार्वजनिक रूप से पंजीकृत IP एड्रेस को बदलता है।
    चित्र 2.6: NAT फंक्शनिंग
    • NAT का निष्पादन करने वाले रूटर फॉरवार्ड किए गए प्रत्येक पैकेट को वापस प्राइवेट नेटवर्क में प्राइवेट संगठन और गंतव्य एड्रेस को छोड़ते समय पैकेट के स्रोत IP एड्रेस को बदलता है। (नेटवर्क 200.1.1.0 इस चित्र में पंजीकृत है)
    • NAT विशेषता लेबल किए गए रूटर NAT में कॉन्फिगर है, जो ट्रांसलेशन निष्पादित करता है।
    • पोर्ट एड्रेस ट्रांसलेशन (Port Address Translation (PAT)) के साथ NAT की ओवरलोडिंग
      • कुछ नेटवर्क को अधिक की आवश्यकता है, यदि यह पूरी तरह से नहीं होता है, तो IP होस्ट इंटरनेट तक पहुँचते हैं। यदि वह नेटवर्क प्राइवेट IP एड्रेस का प्रयोग करता है, तो NAT रूटर को पंजीकृत IP पते के एक बड़े सेट की आवश्यकता पड़ती है।
      • स्टैटिक NAT के साथ प्रत्येक प्राइवेट IP होस्ट के लिए इंटरनेट एक्सेस की आवश्यकता पड़ती है, उपयोगकर्ता को सार्वजनिक रूप से पंजीकृत IP एड्रेस की आवश्यकता पड़ती है।
      • केवल कुछ ही पब्लिक IP एड्रेस के साथ कई ग्राहकों को सपोर्ट करने हेतु स्केल के लिए NAT ओवरलोडिंग की अनुमति देता है।
      • चित्र का शीर्ष भाग TCP के प्रयोग से वेब सर्वर को कनेक्ट करने वाले तीन विभिन्न होस्ट के साथ नेटवर्क को प्रदर्शित करता है। चित्र का आधा निचला भाग एक ही क्लाइंट के तीन TCP कनेक्शन के साथ दिन के बाद वाले भाग में एक ही नेटवर्क को प्रदर्शित करता है। .
      • सर्वर IP एड्रेस (170.1.1.1) और WWW पोर्ट (80, वेब सेवाओं के लिए सुप्रसिद्ध पोर्ट) को सभी छः कनेक्शन कनेक्ट करते हैं।
      • प्रत्येक स्थिति में, सर्वर कई कनेक्शन के बीच अंतर दिखाता है क्योंकि उनके संयोजित IP एड्रेस और पोर्ट नंबर विशिष्ट होते हैं।
      • चित्र 2.7: NAT की ओवरलोडिंग
      • NAT इस तथ्य का लाभ लेता है कि यदि इसमें एक कनेक्शन है, जो तीन विभिन्न होस्ट या सिंगल होस्ट IP एड्रेस के तीन कनेक्शन में अंतर करता है, तो सर्वर वास्तव में इसकी परवाह नहीं करता है। इसलिए, केवल कुछ ग्लोबल, सार्वजनिक रूप से पंजीकृत IP एड्रेस के साथ प्राइवेट IP एड्रेस के भीतर ढ़ेर सारा समर्थन देने के लिए, NAT ओवरलोड पोर्ट एड्रेस ट्रांसलेशन (PAT) का प्रयोग करता है।
      • केवल IP एड्रेस को ट्रांसलेट करने के बजाए, यह पोर्ट नंबर को भीतर ट्रांसलेट करता है।
      • NAT ओवरलोड 65,000 पोर्ट नंबरों का प्रयोग कर सकता है, जो इसे बहुत ही अधिक पंजीकृत IP एड्रेस की आवश्यकता के बिना अच्छे से स्केल करने में सहायक होता है, कई स्थितियों में , छोटे कार्यालय/होम नेटवर्क (small Office/Home Networks) को केवल एक की ही आवश्यकता पड़ती है।
      • सर्वाधिक उपयोगकर्ताओं द्वारा 'रूटर (router)' कहे जाने वाले इस डिवाइस में विभिन्न घटक होते हैं।
    चित्र 2.8: रूटर (Router) के घटक

    IP एड्रेस (IP Address)

    • किसी दूसरे नेटवर्क-लेयर प्रोटोकॉल के साथ, IP एड्रेसिंग स्कीम इंटरनेटवर्क के माध्यम से IP डेटाग्राम की रूटिंग की प्रक्रिया का एक अभिन्न भाग है।
    • प्रत्येक IP एड्रेस में विशिष्ट घटक होते हैं और मूल प्रारूप का पालन करते हैं। इन IP एड्रेस उपवर्गीकृत किया जा सकता है तथा इसका प्रयोग सब नेटवर्क के लिए एड्रेस बनाने में किया जाता है।
    • TCP/IP नेटवर्क (network) पर प्रत्येक होस्ट को एक विशिष्ट 32-बिट (bit) लॉजिकल एड्रेस असाइन किया जाता है जो दो मुख्य भागों में विभाजित होता ह
      • नेटवर्क नंबर (Network Number)
      • होस्ट नंबर (Host number)
    • नेटवर्क नंबर (Network Number)
      • नेटवर्क नंबर नेटवर्क की पहचान करता है और यदि नेटवर्क इंटरनेट का भाग हो, तो इंटरनेट नेटवर्क इंफोर्मेशन सेंटर (Internet Network Information Center) (InterNIC) द्वारा अवश्य असाइन किया जाना चाहिए।
      • इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर (Internet Service Provider) (ISP) InterNIC से नेटवर्क एड्रेस का ब्लॉक प्राप्त कर सकता है तथा आवश्कतानुसार स्वयं एड्रेस स्पेस असाइन कर सकता है।
    • होस्ट नंबर (Host number)
      • होस्ट नंबर नेटवर्क पर होस्ट की पहचान करता है तथा इस स्थानीय नेटवर्क एडमिनिस्ट्रेटर द्वारा असाइन किया जाता है।
    • IP एड्रेस का प्रारूप
      • 32-bit IP एड्रेस को एक बार आठ bits (बिट्स) में समूहित किया जाता है, जिसे डॉट द्वारा अलग किया जाता है, तथा इसे दशमलव प्रारूप में दर्शाया जाता है (डॉटेड डेसीमल नोटेशन के रूप में जाना जाता है)।
      • ऑक्टेट के प्रत्येक बिट में एक बाइनरी वेट (128, 64, 32, 16, 8, 4, 2, 1) होता है।
      • किसी ऑक्टेट का न्यूनतम मान 0 और किसी ऑक्टेट के लिए अधिकतम मान 255 होता है।
      • किसी IP एड्रेस में 32 bits (बिट्स) होते हैं।
      चित्र 2.9: IP एड्रेस का प्रारूप
    • IP एड्रेस की श्रेणियाँ
      • IP एड्रेस पाँच विभिन्न एड्रेस श्रेणियों का समर्थन करता है: A, B,C, D, और E।
      • केवल श्रेणियाँ A, B, और C वाणिज्यिक उपयोग के लिए उपलब्ध हैं।
      • सबसे बाईं ओर (उच्च-क्रम) bits (बिट्स) नेटवर्क श्रेणी को दर्शाता है।
      • चित्र 2.10: पाँच IP एड्रेस श्रेणियों के बारे में संदर्भ जानकारी
        चित्र 2.11: वाणिज्यिक उपयोग के लिए IP एड्रेस प्रारूप
      • उदाहरण के लिए, 172.31.1.2 के IP एड्रेस में, पहला ऑक्टेट 172 होता है। क्योंकि, 172 128 और 191 के बीच आता है, इसलिए 172.31.1.2 एक श्रेणी B एड्रेस है
    चित्र 2.12: प्रत्येक एड्रेस श्रेणी का पहला ऑक्टेट (octet)

    ई-मेल एड्रेस (E-mail Addresses)

    • ईमेल इलेक्ट्रॉनिक साधनों द्वारा वितरित होने वाला एक संदेश है, जो नेटवर्क के जरिए एक कंप्यूटर उपयोगकर्ता से एक या दूसरे प्राप्तकर्ता तक जाता है।
    • ईमेल और नियमित मेल के बाद एक समानता एड्रेसिंग की है। .
    • किसी वितरित किए जाने वाले संदेश के लिए, प्रेषक को प्राप्त करता का एड्रेस निर्दिष्ट करना और यह दर्शाने के लिए पर्याप्त मात्रा में जानकारी प्रदान करना आवश्यक है कि प्राप्तकर्ता तक यह संदेश कैसे और किस प्रकार पहुंच सकता है।
    • TCP/IP ईमेल में, एक मानक इलेक्ट्रॉनिक मेल एड्रेस प्रारूप का प्रयोग इसके लिए किया जाता है तथा वैकल्पिक एड्रेसिंग स्कीम के लिए सहायता भी दी जाती है जिसका प्रयोग विशेष स्थितियों में किया जा सकता है।
    • किसी इंटरनेटनेटवर्क पर सभी कम्यूनिकेशन को कम्यूनिकेशन के अभिप्रेत प्राप्तकर्ता की पहचान को निर्दिष्ट करने के कुछ तरीकों की आवश्यकता पड़ती है।
    • अधिकांश एप्लिकेशन प्रोटोकॉल, जैसे कि फाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल (FTP) और हाइपरटेक्स्ट ट्रांसफर प्रोटोकॉल (HTTP), भेजी जाने वाली जानकारी के गंतव्य को निर्दिष्ट करने के लिए पारंपरिक कॉन्ट्रैक्ट, IP एड्रेस और पोर्ट नंबर का प्रयोग करते हैं।
    • IP एड्रेस आमतौर पर एक विशेष होस्ट कंप्यूटर की पहचान करता है तथा पोर्ट नंबर उस कंप्यूटर पर संचालित सॉफ्टवेयर प्रक्रिया या एप्लिकेशन को दर्शाता है।
    • हालांकि ईमेल कम्यूनिकेशन के लिए ऐसे मॉडल का प्रयोग करता है, जो अधिकांश एप्लिकेशन से भिन्न होता है।
    • ईमेल एक मशीन से दूसरे मशीन पर नहीं भेजे जाते हैं, क्योंकि FTP के प्रयोग से फाइल का स्थानांतरण होता है। इसके बजाए, इसे एक उपयोगकर्ता से दूसरे उपयोगकर्ता को भेजा जाता है। संपूर्ण सिस्टम के ऑपरेशन के लिए यह महत्वपूर्ण होता है। .
    • किसी एक चीज के लिए, यह किसी व्यक्ति को ऐसे ईमेल दोबारा प्राप्त करने की अनुमति देता है जिसे किसी भिन्न क्लाइंट कंप्यूटर के किसी संख्या से भेजा गया है। उदाहरण के लिए, यह प्राप्तकर्ता को यात्रा के समय में भी ईमेल प्राप्त करने की अनुमति देता है।
    • ई-मेल संदेश उपयोगकर्ता पर आधारित होता है, इसलिए एड्रेसिंग स्कीम भी उपयोगकर्ता पर आधारित होना चाहिए।
    • उपयोगकर्ता पारंपरिक IP एड्रेस और पोर्ट का प्रयोग नहीं कर सकते हैं, इसलिए उन्हें किसी भिन्न सिस्टम की आवश्यकता पड़ती है जो जानकारी के दो प्राथमिक भागों को निर्दिष्ट करते हैं, जैसे कि उपयोगकर्ता कौन है तथा उपयोगकर्ता कहाँ स्थित है। बेशक, नियमित मेल एनवेलप पर नाम और पता के अनुरूप होते हैं।
    • उपयोगकर्ता नाम का विचार पूर्णतया सरल है लेकिन उपयोगकर्ता के स्थान की पहचान करना इतना सरल नहीं है।
    • नियमित मेल में, एड्रेस किसी भौतिक स्थान को संदर्भित करता है। इसी तरह ईमेल एड्रेस की पहचान करना संभव हो गया है, अर्थात ईमेल एड्रेस होने का अर्थ उपयोगकर्ता के क्लाइंट मशीन का होना है।
    • हालांकि, ईमेल डिलीवरी की अन्य महत्वपूर्ण विशेषताओं को याद करें, यह अप्रत्यक्ष होता है तथा उपयोगकर्ता के स्थानीय सिम्पल मेल ट्रांसफर प्रोटोकॉल (Simple Mail Transfer Protocol) (SMTP) सर्वर के सिद्धांत पर आधारित है तथा यह प्राप्त संदेशों को तब तक रोक कर रख सकता है, जब तक कि उन्हें पुनः प्राप्त किया जा सके।
    • वह मशीन जो उपयोगकर्ता अपने ईमेल को एक्सेस करने के लिए नियोजित करता है, उसे इंटरनेट से रूटीन रूप से भी कनेक्ट नहीं किया जा सकता है तथा इस प्रकार इसकी पहचान करने के लिए आसान नहीं हो सकता है। और वे विविध मशीनों से ईमेल एक्सेस करने के लिए उपयोगकर्ता को सक्षम करना चाहते हैं।
    • इन सभी कारणों के लिए, लोग पहचान करने के लिए एड्रेस करना चाहते हैं, न कि किसी खास समय में उपयोगकर्ता के विशिष्ट स्थान की पहचान करना चाहते हैं, लेकिन वह स्थान जहाँ उपयोगकर्ता का स्थाई मेलबॉक्स उपयोगकर्ता के SMTP सर्वर होता है, जो इंटरनेट से स्थाई रूप से कनेक्ट होता है।

    रीसोर्स एड्रेस (Resource Addresses)

    • उपयोगकर्ता अपने ब्राउजर का प्रयोग करते समय उनकी ओर से क्लाइंट प्रोग्राम के रूप में कार्य करता है।
    • उनके अनुरोध को पूरा करने के लिए, उनका ब्राउजर संपर्क ब्राउजर होगा तथा या तो जानकारी या कुछ प्रकार की सेवा के लिए पूछेगा।

    URL (यूनिफॉर्म रीसोर्स लोकेटर (Uniform Resource Locator))

    • URL सटीक स्थान और किसी इंटरनेट संसाधन के बारे में केवल नाम को निर्दिष्ट करने के लिए मानक तरीका प्रदान करता है।
    • सामान्य रूप से, अधिकांश URL में दो सामान्य प्रारूप होता है
      • स्कीम (scheme)://host_name/description
      • स्कीम (scheme): विवरण
    • उदाहरण 1: http://www.bryanadams.com/bryan
      • यह उदाहरण किसी कंप्यूटर पर किसी खास वेब पृष्ठ का वर्णन करता है।
      • URL किसी नाम से आरंभ होता है, जो विशिष्ट प्रकार के संसाधन को दर्शाता है। (यह नाम ऐसी जानकारी भेजने और प्राप्त करने के लिए प्रयुक्त प्रोटोकॉल से आता है: हाइपरटेक्स्ट ट्रांसफर प्रोटोकॉल (Hypertext Transfer Protocol))
    • URL और होस्ट का नाम (Host Names)
      • URL के साथ प्रयुक्त स्कीम की सूची नीचे टेबल में दी गई हैं
      • URL के कुछ उदाहरण जिसमें होस्ट का नाम है
        • http://www.wendy.com/~wendy
        • fttp://ftp.uu.net/usenet/news.answers/alt_tech/pointers.z
        • telnet://nightmare.internet.com:1701/
      चित्र 2.13: URL स्कीम की सूची
    • URL और पोर्ट नंबर (Port Numbers)
      • प्रत्येक प्रकार के इंटरनेट सर्विस में इसका अपना विशिष्ट पोर्ट होता है।
      • URL के भीतर, यदि यह उस प्रकार की सेवा के लिए डिफॉल्ट नहीं होता है, तो उपयोगकर्ता को केवल पोर्ट नंबर निर्दिष्ट करना होता है।
      • उदाहरण के लिए टेलनेट का डिफॉल्ट पोर्ट नंबर 23 है।
    • निम्नलिखित दो URL समतुल्य हैं
      • telnet://locis.loc.gov/
      • telnet://locis.loc.gov:23/
    • HTTP सर्विस डिफॉल्ट रूप से, पोर्ट 80 का प्रयोग करता है।
    • उसी तरह गोफर सर्विस पोर्ट 70 का प्रयोग करता है।
    • उदाहरण के लिए, निम्नलिखित दो URL समतुल्य हैं। वे दोनों पोर्ट 8- के प्रयोग से www.wendy.com नामक कंप्यूटर पर पोर्ट 80 के प्रयोग से एक ही हाइपरटेक्सट रीसोर्ट को पॉइंट करते हैं
      • http://www.wendy.com/~wendy
      • http://www.wendy.com:80/~wendy
    • पाथ का नाम (Path names)
      • विशेष हाइपरटेक्स्ट URL जैसे कि http://www.cathouse/humor/tech/data.from.bell
      • उपयोगकर्ता ऐसे URL को तीन भागों में विभाजित कर सकता है।
      • स्कीम (http:), होस्ट का नाम (इस स्थिति में //www.cathouse.org/), और path_name (इस स्थिति में cathouse/humor/tech/data.from.bell)
      • ऐसे URL का विश्लेषण करने के लिए प्रत्येक भाग पर नजर डालें
        • स्कीम (HTTP) इस रीसोर्स की पहचान हाइपरटेक्स्ट के रूप में की जाती है।
        • होस्ट का नाम कंप्यूटर का नाम होता है।
        • पाथ का नाम यह प्रदर्शित करता है जिस स्थान पर हाइपरटेक्स्ट रीसोर्स के होस्ट को संग्रहित किया जाता है।

    Resource: http://econtent.nielit.gov.in