https://www.rakeshmgs.in/search/label/Template
https://www.rakeshmgs.in
Advertisements
RakeshMgs

Building Block of IoT in Hindi | IoT का बिल्डिंग ब्लॉक हिंदी में

शनिवार, 29 जनवरी 2022

    चार चीजें IoT सिस्टम के बुनियादी निर्माण खंड बनाती हैं-सेंसर, प्रोसेसर, गेटवे, एप्लिकेशन। उपयोगी IoT सिस्टम बनाने के लिए इनमें से प्रत्येक नोड की अपनी विशेषताएं होनी चाहिए।

    1. Sensors:

    ये IoT उपकरणों का फ्रंट एंड बनाते हैं। ये सिस्टम की तथाकथित "चीजें" हैं। उनका मुख्य उद्देश्य अपने परिवेश (सेंसर) से डेटा एकत्र करना या इसके आसपास (एक्ट्यूएटर्स) को डेटा देना है। ये एक विशिष्ट आईपी पते के साथ विशिष्ट रूप से पहचाने जाने योग्य उपकरण होने चाहिए ताकि इन्हें एक बड़े नेटवर्क पर आसानी से पहचाना जा सके।

    इन्हें प्रकृति में सक्रिय होना चाहिए जिसका अर्थ है कि वे रीयल-टाइम डेटा एकत्र करने में सक्षम होना चाहिए। ये या तो अपने आप काम कर सकते हैं (प्रकृति में स्वायत्त) या उपयोगकर्ता द्वारा उनकी आवश्यकताओं (उपयोगकर्ता-नियंत्रित) के आधार पर काम करने के लिए बनाया जा सकता है। सेंसर के उदाहरण गैस सेंसर, पानी की गुणवत्ता सेंसर, नमी सेंसर आदि हैं।


    2. Processors:

    प्रोसेसर IoT सिस्टम का दिमाग हैं। उनका मुख्य कार्य सेंसर द्वारा कैप्चर किए गए डेटा को संसाधित करना और उन्हें संसाधित करना है ताकि एकत्रित किए गए कच्चे डेटा की भारी मात्रा से मूल्यवान डेटा निकाला जा सके। एक शब्द में हम कह सकते हैं कि यह डेटा को इंटेलिजेंस देता है। प्रोसेसर ज्यादातर रीयल-टाइम आधार पर काम करते हैं और इन्हें एप्लिकेशन द्वारा आसानी से नियंत्रित किया जा सकता है। ये डेटा को सुरक्षित करने के लिए भी जिम्मेदार हैं - जो डेटा का एन्क्रिप्शन और डिक्रिप्शन कर रहा है। एंबेडेड हार्डवेयर डिवाइस, माइक्रोकंट्रोलर, आदि वे हैं जो डेटा को प्रोसेस करते हैं क्योंकि उनमें प्रोसेसर लगे होते हैं।


    3. Gateways:

    गेटवे संसाधित डेटा को रूट करने और इसके (डेटा) उचित उपयोग के लिए उचित स्थानों पर भेजने के लिए जिम्मेदार हैं। दूसरे शब्दों में, हम कह सकते हैं कि गेटवे डेटा के संचार में और उससे मदद करता है। यह डेटा को नेटवर्क कनेक्टिविटी प्रदान करता है। संचार करने के लिए किसी भी IoT सिस्टम के लिए नेटवर्क कनेक्टिविटी आवश्यक है। LAN, WAN, PAN, आदि नेटवर्क गेटवे के उदाहरण हैं।

    4. Applications:

    एप्लिकेशन IoT सिस्टम का दूसरा छोर बनाते हैं। एकत्र किए गए सभी डेटा के समुचित उपयोग के लिए आवेदन आवश्यक हैं। ये क्लाउड-आधारित एप्लिकेशन जो एकत्र किए गए डेटा को प्रभावी अर्थ प्रदान करने के लिए जिम्मेदार हैं। एप्लिकेशन उपयोगकर्ताओं द्वारा नियंत्रित होते हैं और विशेष सेवाओं का वितरण बिंदु होते हैं। अनुप्रयोगों के उदाहरण होम ऑटोमेशन ऐप, सुरक्षा प्रणाली, औद्योगिक नियंत्रण केंद्र आदि हैं।

    Buy O Level Book Here


    Admin

    Admin
    आपको आर्टिकल कैसा लगा? अपनी राय अवश्य दें
    Please don't Add spam links,
    if you want backlinks from my blog contact me on rakeshmgs.in@gmail.com